फिच रेटिंग्‍स ने कहा, अगले वित्‍त वर्ष में 9.5 फीसदी की दर से बढ़ेगी भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था



चालू वित्त वर्ष में गहरे संकुचन के बाद देश की अर्थव्यवस्था के अगले वित्‍त वर्ष में 9.5 फीसदी की दर से वृद्धि करने का अनुमान है। ग्‍लोबल रेटिंग एजेंसी, फिच रेटिंग्स ,ने बुधवार को जारी एक रिपोर्ट में ये बात कही है। गौरतलब है कि फिच रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में में भारतीय अर्थव्यवस्था के 5 फीसदी सिकुड़ने का अनुमान जताया था।

एजेंसी के मुताबिक कोविड-19 के संक्रमण गहाराने और देशव्‍यापी लॉकडाउन के पहले से ही भारतीय अर्थव्यवस्था में नरमी का रुख बना हुआ था। फिच ने अपनी ताजा रिपोर्ट एशिया-प्रशांत ऋण साख परिदृश्य में कहा है कि ‘कोविड-19 की महामारी ने देश के वृद्धि परिदृश्य को कमजोर किया है। रिपोर्ट के मुताबिक इसकी अन्य प्रमुख वजह सरकार पर भारी कर्ज के चलते कई चुनौतियां भी पैदा होना है।

फिच ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है कि इस वैश्विक महामारी के बाद देश की सकल घरेलू उत्‍पाद (जीडीपी) वृद्धि दर के वापस पटरी पर लौटने की उम्मीद है। रेटिंग्‍स एजेंसी ने कहा कि ये वापस उच्च स्तर पर पहुंच सकती है। इसके अगले साल 9.5 फीसदी की दर से वृद्धि करने की उम्मीद है, जो ‘बीबीबी’ श्रेणी से अधिक होगी।

गौरतलब है कि देश में कोरोना-19 के संक्रमण को रोकने के लिए 25 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लागू किया गया था। इसे कई बार विस्तार देकर 30 जून तक बढ़ाया गया। हालांकि, 4 मई से लॉकडाउन के नियमों में कई छूट दी गई है।  
Previous Post Next Post

.