ट्विटर ने पहली बार ट्रम्प के ट्वीट को 'असंतुलित' बताया



ट्वीटर ने मंगलवार को डोनाल्ड ट्रम्प के दो ट्वीट को  "असंसदीय" करार दिया और उन पर झूठे दावे करने का आरोप लगाया। सोशल नेटवर्किंग साइट ने पहली बार ऐसा किया है। ट्विटर लंबे समय से अमेरिकी राष्ट्रपति की सच्चाई से दूर रहने वाली पोस्टों पर कार्रवाई की अपीलों को अनदेखा करता रहा है।

ट्वीटर इस कदम ने ट्रम्प को एक उग्र प्रतिक्रिया के लिये विवश किया और उन्होंने ट्विटर पर "2020 के राष्ट्रपति चुनाव में हस्तक्षेप" करने का आरोप लगाया। उन्होंने ट्वीट किया, "ट्वीटर पूरी तरह से फ्री स्पीच को धता बता रहा है और मैं राष्ट्रपति के रूप में ऐसा नहीं होने दूंगा!"

सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ने मंगलवार को पोस्ट किए गए ट्रंप के दो ट्वीट को निशाना बनाया, जिसमें उन्होंने बिना किसी सबूत के यह दावा किया कि मेल-इन वोटिंग से धोखाधड़ी और जालसाजी वाला चुनाव होगा।

ट्वीटर ने एक लिंक पोस्ट किया, जिसमें लिखा था कि सीएनएन, वाशिंगटन पोस्ट और अन्य मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए उपयोगकर्ताओं ने इन निराधार दावों को नोटिस पर भेजा। नोटिस में कहा गया है कि ट्रंप ने झूठा दावा किया कि मेल पर भेजे मतपत्रों से जालसाजी भरा चुनाव होगा।

जबकि तथ्यों की जांच करने वालों का कहना है कि ऐसा कोई सबूत नहीं है कि मेल पर भेजे मतपत्र मतदाता धोखाधड़ी से जुड़ते हैं। नोटिस के अनुसार ट्रम्प ने कैलिफोर्निया में भ्रामक ट्वीट करने का लक्ष्य रखते हुए कहा कि राज्य में रहने वाले किसी भी व्यक्ति को मतपत्र भेजे जाएंगे, जबकि तथ्य यह है कि वे केवल पंजीकृत मतदाताओं के पास जाएंगे।

राष्ट्रपति ने लंबे समय से ट्वीटर का इस्तेमाल अपने 80 मिलियन अनुयायियों के लिए दुर्व्यवहार, साजिश के सिद्धांत, गलत जानकारी और अपमान फैलाने के लिए एक मंच के रूप में किया है। ट्वीटर शायद अपने सबसे प्रभावशाली उपयोगकर्ताओं में से एक के साथ टकराव की आशंका से पहले ऐसे बयानों पर कार्रवाई करने से बचता था।
Previous Post Next Post

.