जमीन विवाद में चाचा की हत्या करने वाला आरोपी भतीजा को किया गया गिरफ्तार

वाराणसी के मिर्जामुराद थाना क्षेत्र के मेहदीगंज गांव में जमीन विवाद में बुजुर्ग राजकुमार गुप्ता की हत्या के मामले में पुलिस ने उनके भतीजे संतोष गुप्ता को शुक्रवार को गिरफ्तार किया। संतोष को पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। वारदात में नामजद रामकुमार के दो अन्य भतीजों उमाशंकर और रमाशंकर के साथ ही शूटर की पुलिस तलाश कर रही है। उधर, पोस्टमार्टम के बाद राजकुमार का शव पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया। पुलिस के अनुसार, राजकुमार के मुंह, सीने और पेट में तीन गोली मारी गई थी। घटनास्थल से तीन खोखे बरामद किए गए हैं।
मिर्जामुराद थाना क्षेत्र के मेहदीगंज गांव निवासी बुजुर्ग किसान राजकुमार गुरुवार की रात अपने घर में टीवी देख रहे थे। इसी दौरान बाइक से आए बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी। इस दौरान परिजन उन्हें बीएचयू ट्रॉमा सेंटर ले गए, जहां मृत घोषित कर दिया गया। राजकुमार के बेटे राजेश की तहरीर के आधार पर उसके तीन चचेरे भाईयों के खिलाफ मिर्जामुराद थाने में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया। एसपी ग्रामीण मार्तंड प्रकाश सिंह ने बताया कि इंस्पेक्टर मिर्जामुराद सुनील दत्त दूबे और उनकी टीम ने चौबीस घंटे के भीतर एक नामजद आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। दो अन्य नामजद की तलाश में छापेमारी जारी है।

12 बिस्वा जमीन को लेकर दो महीने से चल रहा था विवाद। इंस्पेक्टर मिर्जामुराद ने बताया कि राजकुमार गुप्ता ने अपने बड़े भाई लालचंद को स्टांप पेपर पर 12 बिस्वा जमीन लिखी थी। लालचंद का उस जमीन पर कब्जा था, लेकिन दाखिल खारिज नहीं हो पाया था। दो माह पूर्व लालचंद की मौत हो गई। उनके बेटे रमाशंकर, उमाशंकर और संतोष जमीन पर ईंट गिरा कर निर्माण कार्य कराना चाहे तो राजकुमार गुप्ता और उनके परिवार के लोग विरोध करने लगे। इसी बात को लेकर चार दिन पहले भी दोनों पक्षों में विवाद और मारपीट हुई थीञ। सूचना पाकर पुलिस मामले को शांत करा कर लौट गई थी। बृहस्पतिवार को फिर जमीन विवाद को लेकर झगड़ा हुआ और रात में राजकुमार के घर में घुस कर गोली मार दी गई।
Previous Post Next Post

.