शराब पीकर सीधे पहुंचे थाने, थानेदार की कुर्सी पर बैठकर देने लगे पुलिस को ऑर्डर, और फिर जो हुआ जानें....

अलवर में चार जने पुलिस थाने में घुसकर थानेदार की कुर्सी पर बैठ गए और बोले कि हमारे लिए कमरा बुक कराओ, हम स्पेशल केस के सिलसिले के आए हैं। आर्मी इंटेलीजेंस अफसर बनकर सोमवार रात चार जने अलवर के एनईबी थाने पहुंचे और पुलिसकर्मियों से होटल में कमरा बुक कराने को कहा। पुलिसकर्मियों ने जब आईडी मांगी तो फर्जीवाड़ा सामने आ गया। इसके बाद पुलिस ने चारों को शांतिभंग में गिरफ्तार कर लिया। एनईबी थानाधिकारी विनोम सामरिया ने बताया कि सोमवार रात करीब 8 बजे चार जने कार लेकर एनईबी थाने पहुंचे और सीधे एसएचओ के चैम्बर में कुर्सी पर आकर बैठ गए। थाने के पुलिसकर्मियों को बुलाकर उनसे एसएचओ के बारे में पूछा। 
पुलिसकर्मियों ने एसएचओ के गश्त में होने की बात कही तो चारों जने बोले कि वह आर्मी इंटेलीजेंस अफसर हैं और किसी स्पेशल टास्क पर आए हैं। उनके लिए होटल में कमरा बुक कराओ। पुलिसकर्मियों ने उनसे आई कार्ड मांगा तो वह सकपका गए और एक-एक कर थाने से खिसकने लगे, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उन्हें पकड़कर बैठा लिया। पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम-पता विवेक (46) पुत्र रणसिंह जाट निवासी पटेल नगर जिला गुरुग्राम-हरियाणा, भूपेन्द्र (42) पुत्र रामअवतार निवासी कनीना जिला महेन्द्रगढ़-हरियाणा, रविन्द्र (23) पुत्र अमरदास जाटव निवासी अलीपुरा जिला जींद-हरियाणा और सोमेश (34) पुत्र श्रीनिवास शर्मा निवासी हरसरू जिला गुरुग्राम- हरियाणा बताया। 

पुलिस ने सभी आरोपियों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर मंगलवार को न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया। थानाधिकारी सामरिया ने बताया कि चारों आरोपी प्लेसमेंट एजेन्सी चलाते हैं। सोमवार को वह सरिस्का घूमने आए थे। सरिस्का से लौटते समय उन्हें रात हो गई तो उन्होंने फर्जी आर्मी इंटेलीजेंस अफसर बन पुलिस से होटल में कमरा बुक कराने की योजना बनाई। इस दौरान चारों ने शराब पी रखी थी।
Previous Post Next Post

.