घर के मंदिर में हमेशा रखें एक लोटा पानी और ऐसे करें इस्तेमाल, घर में नही होगी धन की कमी

हर कोई अपने घर में सुख शांति खुशहाली आदि के लिए पुजा पाठ करता रहता है। कई लोग अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए करते है तो कुछ लोग श्रद्धा भाव से। मगर आपने शायद एक बात पर ध्यान दिया होगा की घर के मंदिर में हमेशा एक लोटा पानी रखा होता है। क्या आप जानते है ऐसा क्यों किया जाता है और ऐसा करने के पीछे क्या वजह हो सकती है। आपको बता दे की घर के मंदिर में पानी से भरा लोटा हमारे जीवन में वस्तु नियमों को सुधरता है और हमारे घर परिवार में खुशियाँ और समृद्धि लाता है।
आज हम आपको कुछ वास्तु टिप्स के नियमों के बारे में बताएँगे जिसका पालन करने से हमारे जीवन में सुख समृद्धि खुशियां आती है। सबसे पहले तो आपको बताना चाहेंगे की देवता को प्रसन्न करने के लिए हमेशा तांबे के लोटे का इस्तेमाल करना चाहिए। माना जाता है की इससे आपके घर के जितने भी वास्तुदोष है वह सब समाप्त हो जाते है।
ऐसा भी कहा जाता है की घर में बनी रोटी में से पहली रोटी हमेशा गाय के नाम से और आखरी रोटी कुत्ते के नाम से ही बनाना चाहिए, ऐसा करने से घर के तमाम दोष आदि दूर होने लगते है। बताड़े की आपको हमेशा अपने घर के मंदिर में एक बर्तन में पानी बाहर निकाल कर रख लेना चाहिए और अगले दिन पुजा के पश्चात इस पानी को घर के सभी कोनों में छिड़कना चाहिए, ऐसा करने से पूरे घर में एक सकारात्मक ऊर्जा का विस्तार होता है।

ऐसा कहा जाता है की जब भी आप पुजा कर लेते है तो पूजा करने के बाद सूखे फूलों को घर में कभी नहीं रखना चाहिए। ऐसा मानना है की सूखे फूलों को घर में रखने से आपके घर में हमेशा नकारात्मक्ता बनी रहती है। इसीलिए इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की पुजा के बाद फूलों को सांझ के समय कहीं पानी में बहा देना चाहिए।

Previous Post Next Post

.