भगवान श्रीकृष्ण द्वारा बताए गए तीन पौराणिक मन्त्र, जिसके जाप मात्र से हर संकट होता है दूर

हमारे हिन्दू धर्म में देवी-देवताओं को काफी महत्व दिया जाता है और देखा जाए तो हिन्दू धर्म से जुड़ी तमाम सभी धार्मिक ग्रन्थों को भी काफी ज्यादा महत्व दिया जाता है। आपको बता दे की शास्त्रों के अनुसार यह बताया गया है की भगवान् श्रीकृष्ण से संबंधित मानव जाती के कल्याण के लिए कुछ मंत्र बताए गए है जो हमेशा ही कल्याणकारी रहे है। मगर उन सभी मंत्रो में से भी कुछ मंत्रों को विशेष महत्व दिया गया है और बता दे की उन मंत्रों का प्राचीन समय से ही पालन किया जाता रहा है और आज हम आपको उनही मंत्रों के रूबरू करवाने जा रहे है।
बताना चाहेंगे कि जो भी व्यक्ति इन मंत्रो का जाप करता है तो जाप करने से पूर्व में एक बार ॐ श्री कृश्णाय शरणं नमः का उच्चारण जरूर कर लें और मंत्र उच्चारण के वक़्त तन के साथ साथ मन को भी पवित्र रखें और इस मंत्र का 108 बार जाप करे:

ॐ कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने !!

प्रणत: क्लेशनाशाय गोविंदराय नमो नम: !!

आपको बता दे की जो भी व्यक्ति इस मंत्र का प्रतिदिन जाप करता है उसके जीवन में कभी भी किसी प्रकार का कष्ट नही होने पाता है,  इसके अलावा आपको बता दे की यह मंत्र संकट के वक़्त भी दोहराया जा सकता है। इस दौरान आपा इस मंत्र का जाप कर सकते है :

ॐ नम: भगवते वासुदेवाय कृष्णाय,

क्लेशनाशाय गोविन्दाय नमो नम: !

शास्त्रों के अनुसार बताया गया है की आप इस मन्त्र को कभी भी जब भी आपका मन शांत ना हो उस समय दोहरा सकते है। असल में इस मन्त्र को किसी भी क्षण दोहराने या जाप करने से मन श्रीकृष्ण से जुड़ा रहता है। इन मंत्रों का जपा करने के बाद भगवान अपने भक्तो पर अपनी कृपादृष्टि दिखाते रहते है और उस व्यक्ति की को किसी तरह की कोई समस्या नही आन पड़ती है।

‘हरे कृष्ण हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे !

हरे राम हरे राम, राम-राम हरे- हरे !

ऐसा माना जाता है की हुमारे जीवन में भगवान श्री कृष्ण जी ने अपने भक्तों के साथ साथ ऐसा असर दिखाते है जहां मंत्रो का बहुत महत्व। बताना चाहेंगे की जिस तरह से कोई भी परेशान इंसान सच्चे मन से इन मंत्रों का उच्चारण करते है।

Previous Post Next Post

.