श्राद्ध पक्ष में अगर आपके भी घर में दिखती है ये चीज़ें तो होने वाली है धन की वर्षा

श्राद्ध पक्ष बहुत ही विशेष माना जाता है और इसमें मिलने वाले संकेत भी बहुत ख़ास होते है लेकिन अगर आप इन संकेत को नहीं समझ पाएँगे तो यह आपके लिए व्यर्थ है। आज हम आपको बताएँगे ऐसे संकेत के बारे में जो काफी लोगो को पित्र पक्ष में मिलते है जिनका आपको भरपूर लाभ उठाना चाहिए और यदि आपसे किसी प्रकार की गलती हो गयी है तो आप उसको समय रहते सुधार सके।
सबसे पहले आपको बता दे की अगर घर में आपको इनमें से कोई भी संकेत दिखाई दे तो समझ लीजिए श्राद्ध पक्ष में पितरों की कृपा से आपकी किस्मत भी चमकने वाली है। जैसे अचानक धन प्राप्ति होना या फिर पिछले कई सालों से रुका कम हो जाना। यदि आपने किसी नए काम में हाथ लगाया और वो फाटक से हो जाए या फिर काफी समय के बाद आपकी नौकरी का योग बनाने लगे तो बस समझ लीजिये की आपके द्वारा किये गए श्राद्ध से पित्र काफी खुश है और आपको आशीर्वाद दे रहे है। आपको बता दे की यदि आप अपने किसी इष्टजन जो की मृत है को याद करते ही काम होने का योग बनने लगे अर्थात पित्र की कृपा है।
बता दे की यदि किसी वजह से श्राद्ध छूट जाए तो आप आने वाले अमावयसा श्राद्ध कर सकते है और साथ ही पित्र का नाम ले किसी गरीब को दान पुण्य करते है तो निश्चित रूप से आपके रुके हुए काम जरूर बनंगे। जी हाँ, आपको बताना चाहेंगे की शास्त्रों के अनुसार पितरों के लिए किया गया श्राद्ध आपके परिवार के उन मृतकों को तृप्त करता है जो पितृलोक की यात्रा पर हैं, अर्थात इस तरह से आपके पितरों को श्राद्ध के माध्यम से दी गई वस्तु पहुंचती है और वे श्राद्ध करने वाले को आशीर्वाद देते हैं।
बता दे श्राद्ध का अर्थ ही होता है सामान्य भोजन करना और यही हमारे दिवंगत माता-पिता चाहते है जिससे की उन्हे तृप्ति मिल जाए ना की तड़क भड़क और मसालेदार भोजन। बताना चाहेंगे की श्राद्ध के समय हमे कई बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए साथ ही इस समय कुछ वर्जित भोज्य पदार्थों का भोग नहीं लगाना चाहिए साथ ही आपको किसी भी प्रकार का गलत काम नहीं करना चाहिए, काम क्रोध से दूरी रखनी चाहिए साथ ही किसी की निंदा नहीं करनी चाहिए।

इस पक्ष मे सलाह दी जाती है की सादा भोजन ही बनाना चाहिए और लहसुन-प्याज आदि का बिलकुल भी प्रयोग नहीं करना चाहिए। बताना चाहेंगे की यदि आप ऐसा नहीं करते है तो आपके और परिवार से जुड़ी सुख-समृद्धि चली जाती है और लाख जतन करने के बाद भी देवी-देवता प्रसन्न नहीं होते। बता दे की अधिकांश लोग श्राद्ध पक्ष में किसी भी तरह का कोई नया काम करने से बचते हैं मगर आपको बता दे की जिन लोगों पर पितरो की कृपा होती है उन्हें नए काम करने से दुगना लाभ प्राप्त होता है। बताना चाहेंगे की शास्त्रों के अनुसार पित्रों को खुश करने के लिए तुलसी से पिंड पुजा कर देते है तो पित्र खुश होकर गरुण पर सवार हो विष्णुलोक लौट जाते है।

Previous Post Next Post

.