लड़की से रोज चैट करना पड़ गया भारी, सोशल मीडिया पर हुई थी दोनों लोगों की दोस्ती....

पाली के सोजत थाना क्षेत्र के अटबड़ा गांव के शिक्षक भैराराम प्रजापत के अपहरण की पूरी कहानी साफ हो गई है। मामला हनी ट्रेप का निकला। शिक्षक भैराराम पांच माह पूर्व फेसबुक पर एक फर्जी आइडी की लड़की से दोस्ती कर बैठे। वे सीकर उससे मिलने गए थे, वहां चार जनों ने उनका अपहरण कर 41 हजार रुपए फिरौती के रूप में मंगवा लिए। इसके बाद उन्हें नवलगढ़ पर पटककर अपहरणकर्ता भाग गए। बुधवार को शिक्षक को सोजत सिटी थाने पुलिस लेकर आई, तब शिक्षक ने यह कहानी बयां की। अब पुलिस अपहरणकर्ताओं व महिला की तलाश में जुटी है।

रोज करते थे चैट, नववर्ष पर मिलने गए
सोजत सिटी थानाधिकारी रामेश्वरलाल भाटी के अनुसार अटबड़ा निवासी भैराराम प्रजापत (55) को सोजत पुलिस का दल सीकर व नवलगढ़ पर घटनास्थल की तस्दीक करवाकर बुधवार को सोजत लौटा। यहां थाने में पूछताछ के दौरान शिक्षक ने खुलासा किया कि पांच माह पूर्व मौना नाम की लड़की से फेसबुक पर उनकी दोस्ती हुई। वे रोजाना उससे चैट करते थे। कई बार वाट्सएप पर बात भी हुई, लेकिन उन्होंने कभी वीडियो कॉल नहीं की। लड़की ने शिक्षक को नववर्ष पर मिलने के लिए सीकर बुलाया। इस पर शिक्षक घर से जयपुर मित्र से मिलने का कहकर निकले और सीकर पहुंच गए।

बलात्कार के झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी

सीकर बस स्टैण्ड पर बिना नम्बरी कार में दो युवक आए और लड़की द्वारा उनको भेजने का कहकर शिक्षक को कार में बैठाया। आगे जाकर दो युवक और कार में बैठ गए। फिर चारों युवकों ने शिक्षक से रुपए मांगे। नहीं देने पर बलात्कार के झूठे मामले में फंसाने की धमकी दी। तब शिक्षक को सारा माजरा समझ में आया। उन्होंने अपने बेटे को कॉल कर तीस हजार रुपए व जयपुर के एक दोस्त को कॉल कर 11 हजार रुपए बैंक खाते में मंगवाए। शिक्षक ने यह रकम एटीएम से निकालकर उनको दे दी।

अपहरणकर्ताओं ने और रकम मांगी, तब शिक्षक ने अपने बेटे को पचास हजार रुपए और खाते में भिजवाने को कहा तो बेटे को शक हुआ। उसने सोजत पुलिस को इत्तला दी। सोजत पुलिस ने झुंझुनूं व सीकर पुलिस को अलर्ट किया। इस बीच रातभर अपहरणकर्ता कार में शिक्षक को लेकर घूमते रहे। और रुपए न मिलते देख अपहरणकर्ताओं ने भैराराम को झुंझुनूं के नवलगढ़ में दोपहर में पटक दिया और फरार हो गए। नवलगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची और शिक्षक को दस्तयाब किया।

फेसबुक डिटेल मंगवाई, सतर्क रहने की अपील

एसएचओ सोजत भाटी ने बताया कि लड़की की फेसबुक डिटेल मंगवाई गई है। पुलिस ने आमजन को भी एेसे मामलों में सतर्क रहने व झांसे में न आने की अपील की है। वर्तमान में सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर सैकड़ों एप हैं, जिसके जरिए अाराेपी साइबर अपराध को अंजाम देते हैं। ऐसी एप भी हैं, जिसमें आवाज बदलकर बात की जा सकती है। साइबर अपराध अनुसंधान सेल के एक्सपर्ट का कहना है कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर किसी भी अनजान आईडी से किसी के साथ भी छलावा हो सकता है।
Previous Post Next Post

.