आज है महाशनिवार, शाम को जलते हुए दीपक का करें ये उपाय हर मुसीबत का होगा अंत

जैसा की हम सभी जानते हैं कि कार्तिक माह 15 अक्टूबर से ही शुरू हो गया है। वहीं शास्‍त्रों में पुराणों में कार्तिक मास की चर्चा ‘मासोत्तम मासे, कार्तिक मासे’ से शुरू होती है। शास्‍त्रों में भी कार्तिक माह को सबसे उत्तम माह माना गया है। हिन्दू पंचांग के हिसाब से कार्तिक मास वर्ष का आठवां महीना है। हिन्दू धर्म के अनुसार कुल 12 मास होते हैं, लेकिन इन सभी में से कार्तिक मास को अत्यधिक महत्व दिया गया है। यह मास पूर्ण रूप से धर्म एवं इससे जुड़े कर्म-कांडों से ही संबंधित है।
कार्तिक मास को मनुष्य के मोक्ष का द्वार भी कहा गया है। कहा जाता है कि इस पूरे माह जो दिल से प्रभु की आराधना करे, उनके चरणों में अपना अधिक समय लगाए, ऐसा व्यक्ति मृत्यु पश्चात मोक्ष को प्राप्त होता है। कार्तिक माह में ब्रह्मचर्य का पालन अतिआवश्यक बताया गया है। आज हम बता रहे हैं कुछ ऐसे काम जिनको इस माह में करने से आपको काफी लाभ होगा।
शास्त्रों के अनुसार कार्तिक मास में सबसे प्रधान कार्य दीपदान करना बताया गया है इससे अतुल्य पुण्य की प्राप्ति होती है। कहा जाता है कि अगर भगवान की पूजा करते समय दीपक जलाते हैं तो इसके प्रकाश से आपके घर की नकारात्‍मक उर्जा दूर हो जाती है। अगर आप भी किसी समस्या जैसे लाख कोशिशे करने के बाद भी आपको किसी काम में सफलता नहीं मिलती है, या आप काफी दुःखी रहते है तो परेशान ना होए इस स्थिति में कार्तिक माह में इस उपाय को कर आप भी अपनी समस्‍या को दूर भगा सकते हैं।

वहीं आपको बता दें कि आज शनिवार का दिन है जो कि इस माह का महाशनिवार होगा इस दिन एक उपाय करने से आपके जीवन में जितनी भी समस्‍याएं है उसका अंत हो जाएगा। अगर आज के दिन आप सरसों के तेल का दीपक पीपल के पेड़ के नीचे जलाकर आ जाएंगे तो आपके सारे कष्‍टों का निवारण हो जाएगा। वहीं दीपक जलाकर वापस आते समय बगैर पीछे मुड़े 3 बार अपनी मनोकामना मन में बोलें इससे आपकी हर इच्‍छा पूरी होगी।

Previous Post Next Post

.