धन की देवी लक्ष्मी की पाना चाहते है कृपा तो पूजा में दीपक रखते समय रखें इन बातों का ध्यान

हिन्दू धर्म में पूजा पाठ को काफी महत्व दिया जाता है साथ ही पुजा करने के कई अलग अलग नियम भी बनाए गए है जिससे देवी-देवताओं को प्रसन्न कर उनकी कृपा प्राप्त की जा सके। बताना चाहेंगे की पुजा के कई ऐसे नियम भी होते है जिनका यदि सही तरीके से पालन किया जाए तो वह निश्चित रूप से हमें सत्कर्मों की ओर ले जाता है, मगर कई बार भुलवश भी ऐसा हो हम कुछ ऐसी गलतियाँ कर जाते है जिसकी वजह से हमे पुजा का पूरा परिणाम नहीं मिलता है।
आपको बताना चाहेंगे की अक्सर जब भी हम पूजा करते है तो भगवान के समक्ष दीपक जलाते है मगर अधिकतर लोग यहाँ एक गलती कर जाते है, असल में वो दीपक के नीचे चावल रखना भूल जाते है। बता दे की चावल को शुद्धता का प्रतीक माना गया है और दीपक को पूर्णता का प्रतीक। मान्यतों के अनुसार देखा जाए तो दीपक को हिन्दू धर्म में देवता का रूप माना है।
बताना चाहेंगे की यही वजह है जो किसी भी प्रकार की पूजा शुरू करने से पहले दीपक का तिलक लगाकर पूजा की शुरुवात की जाती है। माना जाता है की यदि दीपक के नीचे चावल ना रखा जाए तो इसे अपशकुन माना जाता है और उस स्थिति में दीपक अपूर्ण होता है। यह भी मान्यता है की यदि दीपक को उचित आसन देकर पूजा में ना रखा जाए तो आपको बता दे की भगवान भी पूजन में आसन ग्रहण नहीं करते।

साथ ही आपको बताना चाहेंगे की चावल को लक्ष्मीजी का प्रिय धान माना जाता है, इसीलिए कहा जाता है कि पुजा करते समय यदि दीपक को चावल का आसन दिया जाए तो इससे घर में लक्ष्मी जी का स्थिर का निवास होता है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि शुक्रवार के दिन लक्ष्मी मां के सामने चावल की ढेरी बनाकर उसके ऊपर घी का दीपक लगाया जाए तो घर में धन और समृद्धि बराबर बनी रहती है।

Previous Post Next Post

.