लॉकडाउन के बाद हाई कोर्ट में चरणबद्ध तरीके से हो कामकाज: डीएचसीबीए


 दिल्ली हाई कोर्ट बार एसोसिएशन ने लॉकडाउन खत्म होने के बाद हाई कोर्ट में चरणबद्ध तरीके से कामकाज शुरू करने का सुझाव दिया है। एसोसिएशन ने यह सुझाव जस्टिस हीमा कोहली की अध्यक्षता वाली कमेटी को दिया है। यह कमेटी सामान्य कामकाज के तौर-तरीके सुझाने के लिए हाई कोर्ट की ओर से गठित की गई है।

हाई कोर्ट बार एसोसिएशन ने सुझाव दिया है कि कोर्ट में कामकाज शुरू होने पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होना चाहिए। मास्क पहनना अनिवार्य करने के अलावा सफाई और सैनिटाइजेशन का खास ख्याल रखना चाहिए। एसोसिएशन ने सुझाव दिया है कि कोर्ट में सामान्य कामकाज शुरू होने पर नए मामलों की बाढ़ को रोकने के लिए सभी मामलों की ऑनलाइन फाइलिंग की अनुमति देनी चाहिए। इसके लिए कोर्ट में पिटीशन बॉक्स का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

एसोसिएशन ने पत्र में सुझाव दिया है कि जब तक स्थिति सामन्य नहीं हो जाती, तब तक पक्षकारों और इंटर्न को कोर्ट और वकीलों के चैंबर ब्लॉक में प्रवेश रोका जाना चाहिए। वकीलों को अपने चैंबर और दफ्तर में जाने की जरुरत होती है, लेकिन पक्षकारों से वकील कोर्ट का समय खत्म होने के बाद ही मिलें। कोर्ट परिसर के अंदर क्योस्क और दुकानें बंद की जा सकती हैं। चैंबर ब्लॉक में चलनेवाले कैफेटेरिया और किचन को ही अनुमति मिलनी चाहिए।

एसोसिएशन ने सुझाव दिया है कि कोर्ट रूम की बिल्डिंग में एक ही प्रवेश द्वार से प्रवेश की अनुमति दी जानी चाहिए। प्रवेश करनेवालों की थर्मल स्क्रीनिंग होनी चाहिए। कोशिश यह हो कि कोर्ट में सैनिटाइजेशन टनल के प्रवेश हो। पूरे कोर्ट परिसर में बड़ी मात्रा में जहां-तहां सैनिटाइजर्स उपलब्ध कराया जाना चाहिए। लीगल सर्विस अथॉरिटी और मध्यस्थता केंद्रों में पक्षकारों की उपस्थिति की जरुरत होती है, इसलिए उन्हें स्थिति सामान्य होने तक शुरू नहीं करना चाहिए। 
Previous Post Next Post

.