क्या आपको पता है रामायण के सिर्फ एक मन्त्र पढ़ने से होता है पूरी रामायण पढ़ने जितना लाभ, यहाँ जाने कौन सा है वो मंत्र

आजकल लोगों की जिंदगी इतनी फ़ास्ट फॉरवर्ड हो गयी है की किसी को भी अपने हिन्दू शास्त्रों को पढ़ने का समय नहीं है चाहे वो रामायण हो या फिर कोई और ग्रन्थ। आज हम आपको रामायण का एक ऐसा मंत्र बताने जा रहे हैं जिसका रोज जाप करने से आपको सम्पूर्ण रामायण को पढ़ने का लाभ मिलेगा। ऐसा माना जाता है की एक हिन्दू को जीवन में एक बार कम से कम रामायण का पाठ जरूर कारण चाहिए। तो आइये जानते है की आखिर वो कौन सा मंत्र है जिसके जाप से आपको भी समूचे रामायण को पढ़ने जीतन अलाभ मिल सकता है।

ये है वो एक मंत्र जिसे पढ़कर पूरे रामायण पढ़ने जतना लाभ मिलेगा

हिन्दू धर्म में ऐसा भी कहा गया है की रामायण पढ़ने से लोगों के पापों का भी नाश होता है। इसलिए रामायण को पढ़ना सभी के लिए आवश्यक बताया गया है। रामायण में दो विद्वानों द्वारा लिखी गयी थी तुलसीदास जी द्वारा रचित रामायण था “रामचरित मानस” और वाल्मीकि द्वारा रचित था “रामायण” दोनों ही पुस्तकों में भगवान् श्री राम का जिक्र है। हालाँकि दोनों ही पुस्तकों में कुछ कुछ बातें ऐसी हैं जो एक दूसरे से अलग है लेकिन रामायण का ये एक मंत्र दोनों ह पुस्तकों में विधमान है। ये है वो महाफलदायक मंत्र जसके जाप से आपको सम्पूर्ण रामयण को पढ़ने जितना लाभ मिल सकता है।
आदि राम तपोवनादि गमनं, हत्वा मृगं कांचनम्।
वैदीहीहरणं जटायुमरणं, सुग्रीवसंभाषणम्।।
बालीनिर्दलनं समुद्रतरणं, लंकापुरीदाहनम्।
पश्चाद् रावण कुम्भकर्ण हननम्, एतद्धि रामायणम्।‍‌‍

इस मन्त्र का जाप इस विधि द्वारा करें

इस मंत्र को पढ़ने से पहले कुछ विशेष नियमों का पालन करना बेहद करना आवश्यक है। सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर सारे रोज के दिनचर्यां से निपटने के बाद स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र धारण करने के बाद श्री राम की पूजा अर्चना करें। इसके बाद एक आसन लगाकर एक रूद्राक्ष की माला लें और इस मंत्र का जाप करना शुरू करें। रोज पांच बार रूद्राक्ष की माला के साथ इस मात्रा का जाप करने से आपको मनवांछित फल प्राप्त होगा और आपके सारे रुके हुए कार्य पूर्ण होंगे। इस मंत्र के जाप के दौरान अगर कुश से बने आसान पर विराजमान होकर मंत्र जाप की जाए तो उसे और भी अच्छा माना जाता है। इस प्रकार से आप भी अगर सम्पूर्ण रामायण का जाप करने का समय नहीं निकाल पा रहे हों तो कम से कम इस एक मंत्र का जाप जरूर करें।
Previous Post Next Post

.