लाॅकडाउन का सख्ती से पालन कराएं राज्यः गृहमंत्री

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा है कि वह अपने राज्य में लाॅकडाउन का सख्ती से पालन कराएं। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सभी मुख्यमंत्रियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग की चर्चा के दौरान गृहमंत्री ने भी उनसे बातचीत की। उन्होंने कहा कि राज्यों से लॉकडाउन का उल्लंघन करने की खबरें आ रही हैं। ऐसे में सभी से उन्होंने लाॅकडाउन का सख्ती से पालन कराने की अपील की और प्रधानमंत्री के ‘जान है तो जहान है’ के मार्गदर्शन पर सभी को आगे बढ़ने की बात कही। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई लंबी है और धैर्य के साथ लड़नी पड़ेगी।
बैठक में अमित शाह ने कहा कि जहां-जहां लॉकडाउन तोड़ने की घटनाएं हो रही हैं, उन्हें तुरंत रोकने का प्रयास किया जाना चाहिए। दुनियाभर में दो लाख से ज्यादा लोगों की कोरोना वायरस से मौत हो चुकी है। दुनिया के अन्य देशों की अपेक्षा देश की स्थिति अच्छी है। इस बीच गृह मंत्रालय की रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया है कि दूसरे राज्यों में जो मजदूर हैं, उन्हें उनके गृह राज्य में भेजने की जरूरत नहीं है।
रिपोर्ट के अनुसार मजदूरों की रोजमर्रा की जरूरतों और उनके परिवार की भी जरूरतों को उनके गांव में पूरा किया जा सकता है। गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि अगर मजदूर वापस जाते हैं तो इससे गांवों में संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश ऐसे संकट से जूझ रहा है, जिसमे कोई भी चूक जानलेवा साबित हो सकती है। यह लोगों के जीवन का मामला है। विस्थापित मजदूरों को अगर उनके घर जाने की इजाजत दी जाती है तो इससे नि:संदेह संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ेगा, जिससे हालात काफी बिगड़ सकते हैं।
गौरतलब है कि यह रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई है। केंद्र की ओर से यह रिपोर्ट उन तमाम याचिकाओं के जवाब में दायर की गई है, जिसमे मजदूरों की समस्या को कोर्ट के सामने रखा गया है। लेकिन केंद्र का कहना है कि हम सभी राज्य सरकारों और एनजीओ के साथ मिलकर विस्थापित मजदूरों की जरूरतों को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं।
Previous Post Next Post

.