पड़ोसी के बच्चे को मारकर जमीन में गाड़ा, वजह जानकर चौंक गए सभी लोग, जानिए....

राजस्थान के भरतपुर शहर के लोहागढ़ स्टेडियम में छठी कक्षा के छात्र प्रियांशु का जमीन गड़ा शव मिलने के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है। 11 वर्षीय इस बच्चे की हत्या उसके पड़ोसी ने की थी। भरतपुर पुलिस ने हत्या के आरोप दो युवकों को पकड़ा है। जानकारी के अनुसार 25 दिसम्बर की देर शाम तक प्रियांशु घर नहीं लौटा। तब परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। अगले दिन 26 दिसंबर को अटलबंध पुलिस थाने में प्रियांशु के अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगाले। करीब 3 दर्जन संदिग्धों से पूछताछ की। तब संदेह के आधार पर एएचटीयू टीम में हैडकांस्टेबल पूरण शर्मा की सूझबूझ पर पुलिस ने 28 दिसंबर को प्रियांशु का शव टॉयलेट के पास बनी गुमटी में मिट्‌टी से बाहर निकाला।
डीआईजी भरतपुर लक्ष्मण गौड़ ने बताया कि पकड़े गए दोनों बाल अपराधी विजय नगर कॉलोनी, अटलबंध थाना इलाके में रहते हैं। घटना का मास्टरमाइंड नशे व जुएं का आदी है। 10 वीं कक्षा में फेल हो चुका है। वह छठीं कक्षा में पढ़ने वाले मृतक प्रियांशु के घर के पास रहता है। वहीं, गिरफ्तार हुआ दूसरा नाबालिग मुख्य आरोपी का चचेरा भाई है। उसे पुलिस को गुमराह करने व तथ्य छिपाने के जुर्म में पकड़ा गया है। 
मुख्य आरोपी को मौजमस्ती के लिए रुपयों की जरूरत थी। उसे यह अहसास था कि पास में रहने वाले संजय कुमार के काफी पैसा है। ऐसे में उसने संजय के बेटे और अपने दोस्त 11 वर्षीय प्रियांशु को बंधक बनाकर उसके पिता से 2 लाख रूपए की फिरौती वसूलने का योजना बनाई। इसके लिए 25 दिसंबर को मुख्य आरोपी ने प्रियांशु को क्रिकेट खेलने के लिए लोहागढ़ स्टेडियम बुलाया। 
दोपहर तक क्रिकेट खेलने के बाद मुख्य आरोपी ने पैवेलियन के पास टॉयलेट के पास निर्माणाधीन गुमटी की तरफ गेंद को फेंका और प्रियांशु को गेंद लेकर आने को कहा। प्रियांशु गेंद लेने को उस गुमटी में जैसे ही घुसा तभी संकरी जगह होने से मुख्य आरोपी ने उसे पीछे से दबाकर बांधने की कोशिश की। जब प्रियांशु ने संघर्ष किया तो मुख्य आरोपी अपचारी ने उसका गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद वहीं गड्‌ढा खोदकर आसपास रखी मिट्‌टी प्रियांशु पर पटककर उसका शव छिपा दिया।
Previous Post Next Post

.