क्‍या आपके हाथों में भी बना है महादेव का त्रिशूल, जानें क्‍या है इसका मतलब

आपको जानकर ताजुब होगा की आपके हाथ की रेखाएँ आपके भाग्य का निर्धारण करती है। आपके किस्मत आपके हाथ में छिपी होती है लेकिन आप उसे देख नहीं पाते। कई लोग आपके हाथ की रेखा देख कर आपको आपका भविष्य बताते है। लेकिन इसके लिए आपको पैसे खर्च करने पड़ते है लेकिन आज हम आपको बताएंगे की कैसे किसी के हाथ की रेखा देख कर आप उसके भाग्य के बारे में बता सकते है।
समुद्रशास्त्र के अनुसार हाथ की लकीरों का कुछ खास महत्व होता है लेकिन वहीं कुछ लकीरें ऐसे भी आपकी हाथों में होते हैं जो आपको बहुत भाग्यशाली बना देते हैं तो कुछ दुर्भाग्यशाली। वहीं अगर बात करें हाथों में बने त्रिशूल और चक्र के निशान की तो ये काफी कम लोगों में ही पाए जाते हैं। शास्‍त्रों में माना गया है कि जिनकी हाथों में ऐसे निशान होते हैं वो पिछले जन्म में अच्छे कर्म किये होते हैं और इस जीवन में इनपर भगवान श‌िव और भगवान व‌िष्‍णु की कृपा हमेशा ही बनी रहती है।

आपको बता दें कि हमारे शास्‍त्रों में हस्तरेखा विज्ञान जो कि ज्योतिष विद्या का ही हिस्‍सा है ये एक ऐसी विद्या है जिसके द्वारा हम किसी भी व्‍यक्ति का भविष्य साफ साफ देख सकते हैं भी ज्योतिष विद्या का एक रूप है। हस्तरेखा विज्ञान की जानकारी जिसे होती है वो आपके भविष्‍य के बारे में बता सकता है लेकिन हां ये सबके बस की बात नहीं होती है क्‍योंकि इसे समझना काफी मुश्किल होता है।

शास्‍त्रों में कहा गया है कि हथेली में त्रिशूल के निशान होने से जीवन समृद्ध, सुखी और भाग्यशाली होता है। जिसके हाथ में त्रिशूल होने के अलग-अलग प्रभाव है। मसलन अनामिका के नीचे सूर्य रेखा के अंत में त्रिशूल होना राजयोगी बनाता है उससे नाम, धन और सांसारिक भोगों की प्राप्ति होती है वहीँ तर्जनी के नीचे गुरु पर्वत पर जाने वाली हृदय रेखा के आखिर में निशान होने से जीवन में कभी किसी चीज की कमी नहीं रहती है। मान्‍यता ये भी है कि सपने में अगर त्रिशूल दिखाई दें तो काम में सफलता की संभावना बढ़ जाती है।

Previous Post Next Post

.