वास्‍तु के अनुसार घर के इस दिशा में भूलकर भी न रखें पैसे और न ही कोई कीमती सामान

सभी लोगों की चाहत होती है कि उनके घर में कभी भी धन की कमी न हो। जिससे उनकी हर इच्छा पूरी हो, लेकिन यह तो जरुरी नही है कि आपकी हर इच्छा पूरी हो। आप हमेशा चाहते होगे कि आपके घर से कभी भी लक्ष्मी न जाएं। हिंदु धर्म के लोग घर में किसी भी तरह का परिवर्तन करने से पहले वास्तुशास्त्र को जरूर ध्‍यान देते हैं।
वहीं आपको बता दें कि वास्‍तुशास्‍त्र में घर की हर दिशा का महत्‍व बताया गया है जिसका असर परिवार के सदस्यों पर सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव डालता है। वहीं आपको जानकर हैरानी होगी कि जब आपके घर में कुछ वास्‍तु दोष पनपने लगते हैं ये घर घरवालों की आदतों की वजह से ही होता है। वहीं वास्‍तु में कुछ ऐसी चीजें हैं जिनका ध्‍यान न रखा जाए तो घरों में अनचाहे झगड़े होने लगते हैं और फिर आपके घर में हानि होने लगती है।
वहीं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि घर की उत्तर पूर्व दिशा धन की देवी देवताओं के आगमन का स्थान है। घर में आंगन नहीं है तो घर अधूरा है। घर के आगे और घर के पीछे छोटा ही सही, पर आंगन होना चाहिए। प्राचीन हिन्दू घरों में तो बड़े-बड़े आंगन बनते थे। शहरीकरण के चलते आंगन अब नहीं रहे। आंगन नहीं है तो समझो आपके बच्चे का बचपन भी नहीं है।
1. वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार कभी भी अपने घर में उत्तर पश्चिम की दिशा में धन रखने का महत्वपूर्ण स्रोत माना जाता है। वहीं इस दिशा में कभी भी अंधेरा नहीं होना चाहिए वरना परिवार में क्लेश और धन का अभाव बना रहता है।
2. वहीं वास्‍तु के अनुसार घर में कभी भी दक्षिण दिशा में दरवाजा व धन नहीं रखना चाहिए क्‍योंकि दक्षिण पूर्व दिशा में घर के मुखिया का कमरा होता है और इससे मुखिया हमेशा समस्‍याओं से जूझता रहता है।

3. वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार उत्तर पूर्व दिशा में रसोई किचन कभी नहीं होना चाहिए इससे घर का बजट गड़बड़ा जाता है और फिर घर में पैसों की तंगी हो जाती है। भगवान के लिए उत्तर-पूर्व की दिशा श्रेष्ठ रहती है।

Previous Post Next Post

.