पुरुषों को इन स्त्रियों का अपमान करने पर झेलनी पर सकती है ता उम्र दरिद्रता

जैसा की हम सभी जानते है की हिन्दू धर्मशास्त्र में स्त्रियों को सबसे ऊँचा स्थान दिया गया है। प्राचीनकाल में स्त्रियों को खासा सम्मानीय ओहदा प्राप्त था लेकिन समय के साथ-साथ भारतीय समाज में उनकी गरिमा धूमिल होती चली गयी लोग उन्हें भोग विलास की वस्तु मात्र समझने लग गए। लेकिन हमारे हिन्दू शास्त्रों के अनुसार जो लोग स्त्रियों की इज्जत नहीं करते उन्हें कभी भी सुख शांति और धन लाभ नसीब नहीं होता। आज हम आपको बताने जा रहे है कुछ ऐसे स्त्रियों के बारे में जिनका अपमान करने पर पुरुषों को जिंदगी भर दरिद्रता सहना पड़ सकता है।

इन चार स्त्री रिश्तों का करेंगे अपमान तो रहना पड़ेगा उम्र भर दरिद्र

वैसे तो हर एक स्त्री सम्मान का हकदार होती हैं। एक स्त्री ही है जो हमें नया जीवन देती है और एक जीवन को जन्म देने का बूता रखती है और इसलिए उनका सम्मान सबसे पहले होना चाहिए। हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार इन चार स्त्री रिश्तों का अपमान करने पर पुरुषों को भड़ी नुकसान हो सकता है। आइये जाने कौन से हैं ये 4 स्त्री रिश्ते

घर की बहु

हमारे धर्मशास्त्रों में ऐसा लिखा है की घर में नयी-नवेली बहु का आना सबसे शुभ होता है। नयी-नवेली बहु को साक्षात् लक्ष्मी माता का स्वरुप माना जाता है और किसी भी कारणवस घर का यदि कोई पुरुष इनका अपमान करता है तो लक्ष्मी माता उनसे रूठ जाती हैं और उन्हें उम्र भर पैसों की तंगी झेलनी पड़ सकती है। इसलिए घर की बहु को उचित मान सम्मान और आदर जरूर देना चाहिए।

बड़े भाई की पत्नी यानि भाभी

भाभी को हमारे यहां माँ के तुल्य माना गया है और माँ का अपमान करने वाला व्यक्ति कभी सुखी नहीं रह सकता। वही दूसरी तरफ छोटे भाई की पत्नी को हिन्दू धर्मशास्त्रों में बेटी के तुल्य माना गया है और बेटी का अपमान करने वाला व्यक्ति भी कभी सुखी नहीं रह सकता है। इन दोनों स्त्रियों का अपमान करने वाले व्यक्ति को कभी भी धन लाभ नहीं हो सकता है।

अपनी खुद की बहन

हर पुरुष की ये जिम्मेदारी होती है की वो अपनी बहन की रक्षा करें और उसे उचित मान सामान दें। लेकिन वैसे लोग जो अपनी बहनों को सम्मान नहीं दे सकते उन्हें समाज में रहने का कोई हक़ है नहीं है और ऐसे लोग कभी भी दान धन लाभ है प्राप्त कर सकते हैं। बहन की भावनाओं को चोट पहुंचना और उसके मान सम्मान को आदर है देने वाला व्यक्ति यथा जीवन दरिद्रता का शिकार रहता है।

घर की बेटियां

घर में बेटी चाहे आपकी हो या किसी और की उसका हक़ है की उसे पूरा मान सम्मान दिया जाए। वैसे पुरुष जो बेटियों को पीटते हों या उसका सही मान सम्मान है करते हो उन्हें कभी भी जीवन में सुख शांति हैनहीं मिल सकती है। इसलिए बेटियों को का सही सम्मान करना जरूरी है और कर्तव्य भी।
Previous Post Next Post

.