मारपीट के बाद भी अपने पति के लिए भूखी रहती थी श्वेता, उसके खाने के बाद ही खाती थी खाना

प्रताप नगर यूनिक अपार्टमेंट में हुए दौहरे हत्याकांड में गिरफ्तार रोहित तिवाड़ी ने कबूला कि शुरुआत से ही पति रोहित व पत्नी श्वेता में विवाद था। दिल्ली निवासी रोहित के परिजन उसकी शादी से दिल्ली से करना चाहते थे, जबकि श्वेता के परिजन कानपुर से शादी करना चाहते थे। लेकिन बाद में गाजियाबाद से शादी करना तय हुआ। उन्होंने बताया कि रोहित के एक युवती से अच्छे संबंध रह चुके थे। शादी के बाद भी पति-पत्नी में झगड़े होते रहते थे। वर्ष 2013 में तो श्वेता ने एक पत्र लिखकर बताया था कि कभी भी उसका पति उसकी हत्या करवा सकता है। 
बाद में उनके आईवीएफ तकनीक से ही श्रीयम का जन्म हुआ था। लेकिन दोनों के बनती नहीं थी। श्वेता ने 5 जनवरी को फ्लैट में परिचित तीन चार महिलाओं को बोला कि रोहित ने खूब मारा है। इससे श्वेता के हाथ में चोट भी लगी थी। अपनी मां को भी फोन पर बताया। फ्लैट में रहने वाली महिलाओं ने बताया कि रोहित श्वेता से आए दिन मारपीट करता रहता था। 5 जनवरी को तो काफी लोग एकत्र हो गए थे। मारपीट के बाद भी पति के लिए दिनभर भूखी रहती। मां माधुरी ने बताया कि रोहित ड्यूटी पर चला जाता था, तब श्वेता दिनभर घर में अकेली रहती थी। बेटी श्वेता से दिन में दो तीन बार रोज बात होती थी। 

जब भी रोहित उससे मारपीट करता और बेटी मोबाइल पर बताती थी, तब बेटी का घर बसा रहे, इसलिए उसे ही समझाती रहती थी। 5 जनवरी को रोहित ने श्वेता को काफी मारा और भोजन करे बिना दफ्तर चला गया। तब रात तक श्वेता ने खाना नहीं खाया। बेटी से बात की तो उसने कहा कि उन्होंने (पति ने) खाना नहीं खाया, मैं कैसे खा लूं। उनके आने के बाद ही खाना खा लूंगी। लेकिन ऐसा पता नहीं था कि जिसके लिए बेटी ने भेजन भी नहीं किया, वह उसकी ही जान ले लेगा। बेटी का शक सही निकला। पिता सुरेश ने बताया कि बेटी का रिश्ता करने के बाद ही समझ गए थे कि इस परिवार में गलत फंस गए हैं।
Previous Post Next Post

.