सवारियों के लिए फरिश्ता बने सोहेल, पहले चार को निकाला बाहर फिर कूद कर बचाई औरों की जान

फर्रुखाबाद से जयपुर जा रही एक डबल डेकर स्लीपर बस हादसे का शिकार हो गई। कन्नौज में एक ट्रक ने बस को टक्कर मार दी और देखते ही देखते बस आग के गोले में बदल गई। इस हादसे में कई लोगों के मौत की संभावना है लेकिन अभी तक इसको लेकर कोई पुष्टि नहीं हुई है। इस हादसे में बचे 16 लोगों का इलाज चल रहा है। बस जब हादसे का शिकार हुई तब लोग अपनी जान बचाने को लेकर जद्दोजहद कर रहे थे। लेकिन इसी बस में यात्रा कर रहे सोहेल यात्रियों के लिए फरिश्ता बन गए। उन्होंने अपनी जान की परवाह किए बगैर ही पहले चार लोगों को बचाया और अंत में बस से छलांग लगाकर अपनी जान भी बचाई। हालांकि इस दौरान वे घायल हो गए और फिलहाल उनका इलाज चल रहा है।
जयपुर के ईदगाह गलतागोर निवासी सोहेल पुत्र मो इकबाल दो दिन पहले अपने रिश्तेदारी में छिबरामऊ एक शादी समारोह में शामिल होने आए थे। शुक्रवार की रात वह टूरिस्ट बस में सवार होकर अपने घर वापस जा रहे थे। सोहैल के मुताबिक हादसे के समय वह अपनी सीट पर बैठकर मोबाइल चला रहे थे। तभी बस और ट्रक की टक्कर की आवाज सुनी और फिर आग की लपटों को देखा। अफरा-तफरी की इस घड़ी में सोहेल ने होश से काम लेते हुए बस की खिड़की का शीशा तोड़कर अपने आसपास बैठे तीन लोगों को बस से बाहर निकला दिया।

सोहेल जब चौथे व्यक्ति को बाहर निकाल रहे थे तब वह खुद फंस गए और इस कारण वे घायल भी हो गए। इसके बावजूद उन्होंने अपने साथी को नहीं छोड़ा और किसी तरह उन्हें बाहर निकालने के बाद ही बस से कूद कर अपनी जान बचाई। मेडिकल कॉलेज में भर्ती सोहेल के सामने अभी भी हादसे का वो मंजर ताजा है और याद आते ही उसे झकझोर रहा है। मौत के मुंह से निकल कर अपना इलाज करा रहे सोहेल ने अपने परिजनों को भी सुरक्षित होने की जानकारी दे दी है।
Previous Post Next Post

.