घर में कोई छोटा बच्चा अगर खुद के मन से घर में झाड़ू लगाने लगे, तो समझ लीजिये…

हर व्यक्ति अपने घर को साफ सुथरा देखना चाहता है, जिसके लिए कभी वो खुद से अपने घर की साफ सफाई करता या फिर किसी से सफाई करवाता है। आपको बताना चाहेंगे की हमारे जीवन में जितना महत्व सफाई का होता है उतना ही महत्व  झाड़ू का भी होता है। बताना चाहेंगे की हमारे घर की नकारात्मक ऊर्जा और घर की दरिद्रता को बाहर निकालने का काम झाड़ू का ही है। शास्त्रों के अनुसार हिन्दू धर्म में झाड़ू को लक्ष्मी माता का स्वरुप भी माना जाता है इसलिए सदा झाड़ू की इज्जत की जाती है।
आपको बताना चाहेंगे की घर में झाड़ू को हमेशा साफ़ जगह पर ही रखना चाहिए क्योकि लक्ष्मी माता भी वंही निवास करती है जो स्थान साफ़ सुथरा रहता है। यदि आप अपने नए घर में निवास करने जा रहे है तो आपको बता दे की वंहा सबसे पहली नये झाड़ू से घर की सफाई कर ले और तब ही घर के मुखिया का प्रवेश होना चाहिए। अक्सर दीपावली के दिन सभी घरों में साफ़ सफाई की जाती है इसलिए दीपावली के दिन नयी झाड़ू से घर साफ़ करना चाहिए, इससे आपके घर की गंदगी तो दूर होती ही है साथ ही धन लक्ष्मी की कृपा भी बनी रहती है।
सूर्योदय के बाद सुबह उठकर सबसे पहले अपने घर का पहला काम झाड़ू से ही करे और तब ही कोई दुसरा काम करना चाहिए। बताना चाहेंगे की सूर्यास्त के बाद घर में कभी झाड़ू नहीं लागना चाहिए, कहा जाता है की सूर्यास्त के बाद झाड़ू लगाने से माँ लक्ष्मी रुष्ट हो जाती है और घर में दरिद्रता का वास होने लगता है।

एक बहुत ही महत्वपूर्ण बात आपको बताना चाहेंगे की यदि घर में कोई भी छोटा बच्चा खुद के मन से घर में झाड़ू लगाने लगता हो तो समझ लीजिये की आपके घर कोई मेहमान आने वाला होता है साथ ही माँ लक्ष्मी की कृपा भी बनने वाली है। बताना चाहेंगे की झाड़ू को हमेशा साफ़ सुथरे स्थान पर और हर किसी की नजरों से छिपा कर रखना चाहिए साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की झाड़ू कभी भी पैर नहीं लगना चाहिए।

Previous Post Next Post

.