अगर आप भी दिवाली पर खरीदने जा रहे हैं सोनपापड़ी तो हो जाए सावधान, उससे पहले पढ़ लें ये खबर

दिवाली आने में बस कुछ ही दिन रह गए हैं और ऐसे में बाजार में मिठाईयों की मांग अपने उफान पर है। किसी को घर आये मेहमानो के लिए मिठाइयाँ लेनी है तो किसी को अपने करीबियों और ऑफिस के लोगों को देनी है। लेकिन इस दिवाली मिठाइयों में खासकर के सोनपापड़ी खरीदने से पहले सावधांनी जरूर बरतें क्यूंकि हो सकता है की आप भी मैदे और हल्दी से बनी सोनपापड़ी खरीद रहें हों। जी हाँ बिलकुल ठीक सुना आपने फ़ूड विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सोनपापड़ी में बेशुमार मिलावट के सबूत मिले है।

सोनपापड़ी बनाने वाले कारखाने को फ़ूड विभाग ने दिया नोटिस

बीते दिनों बरेली के एक फेमस सोनपापड़ी बनाने वाले कारखाने को फ़ूड विभाग की ओर से नोटिस भेजा गया है। ये नोटिस फ़ूड विभाग ने इसलिए भेजा है क्यूंकि सोनपापड़ी बनाने वाली इस कारखाने में चारों तरफ गंदगी और कीड़े मकोड़े ही नजर आ रहे थे और तो और सोनपापड़ी मैदे और हल्दी से बनायी जा रही थी। मैदे में हल्दी सोनपापड़ी के रंग को पीला करने के लिए डाला जा रहा था, जैसा की आप सभी को पता होगा सोनपापड़ी केवल बेसन से ही बनायीं जाती है। बरेली के इस कारखाने पर जब फ़ूड वभाग की टीम तफ्तीश के लिए पहुंचीं तो वहां का नाज़ारा देखकर उनके होश उड़ गए, जिस तरीके से वहां सोनपापड़ी बनायीं जा रही थी उसको देखते हुए तो यही लग रहा था की इसे खाने के बाद हज़ारों लोग बीमार पड़ सकते हैं।

ये सोनपापड़ी बना सकता है आपको बहुत बीमार

दिवाली से पहले फ़ूड विभाग की टीम लगातार छापेमारी कर रही है। इस छापेमारी के दौरान ही बरेली के इस सोनपापड़ी कारखाने की हकीकत सबके सामने आयी है। यहाँ बनाये जाने वाले सोनपापड़ी के बर्तन से लेकर पैकिंग वाला कंटेनर तक इतना गन्दा था की इसे खाने वाले व्यक्ति का बीमार पड़ना तो तय है। बरेली का ये सोनपापड़ी कारखाना पिछले 10 -12 सालों से मैदे की बनी सोनपापड़ी ही बेचता आया है। फ़ूड विभाग ने नोटिस भेज कारखाना बंद करने की और प्रोडक्ट पर रोक लगाने का आदेश दिया है।
Previous Post Next Post

.