अगर इनमें से एक भी निशान सूर्य पर्वत पर बनते हैं तो वो इंसान जरूर बनता है करोड़पति

हर कोई इंसान जो इस दुनिया में जन्‍म लेता है वो यही चाहता है कि वो सबसे आगे जाए और हर कोई उसका नाम ले। कहा जाता है कि व्‍यक्ति का भाग्‍य और कहीं नहीं बल्कि खुद उसके हाथों में होता है और वही उसे आगे चलकर सफल बनाता है। आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिससे आपको पता चलेगा कि आपकी हाथ की लकीरें क्‍या कहती हैं। हस्तरेखा व‌िशेषज्ञ के अनुसार भविष्य जानने की सबसे अधिक प्रचलित विद्याओं में हस्तरेखा का भी महत्वपूर्ण स्थान है।
हाथों की रेखाओं का अध्ययन करने पर किसी भी व्यक्ति के भूत, भविष्य और वर्तमान की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। हथेली में कई प्रकार की रेखाएं होती हैं, जैसे- जीवन रेखा, हृदय रेखा, मस्तिष्क रेखा, विवाह रेखा, सूर्य रेखा, बुध रेखा, भाग्य रेखा आदि। हर एक रेखा हमारे विषय में कई महत्वपूर्ण जानकारियां बताती है। मनुष्य के हाथ में- सूर्य-रेखा को ‘रविरेखा’ या ‘तेजस्वी-रेखा’ भी कहा जाता हैं, कारण यह भाग्य-रेखा से होने वाले उज्जवल भविष्य या सौभाग्य को ठीक उसी प्रकार चमका देती हैं जिस प्रकार सूर्य अपने प्रखर प्रकाश से रात्रि के अंधकार को दूर करता है।
हथेली में सूर्य रेखा न होने पर व्यक्ति को प्रतिदिन सुबह-सुबह सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए। अपने सामर्थ्य के अनुसार सूर्य देव के निमित्त गरीब लोगों को पीले रंग की वस्तुएं दान करनी चाहिए। शिवलिंग पर जल चढ़ाएं, इससे भी सूर्य संबंधी दोषों की शांति होती है। टूटी हुई सूर्य रेखा या हथेली पर सूर्य रेखा का ना होना अशुभ माना जाता है। हालांकि यह आम बात होती है क्यूंकि जरूरी नहीं कि हर इंसान यश प्राप्त करें। कई बार तो बड़े-बड़े वैज्ञानिकों के हाथ में भी यह रेखा नहीं होती।
सूर्य रेखा का संबंध सूर्य देव से है सूर्य मान-सम्मान का कारक ग्रह है। अत: सूर्य रेखा के दोषों को दूर करने के लिए सूर्य देव की आराधना करनी चाहिए। जिन जातकों के हाथों में सूर्य रेखा ना हो उन्हें सूर्य देव का उपवास और सूर्य देवता को जल चढ़ाना चाहिए। इसके अलावा शिवलिंग पर जल चढ़ाने और पीली वस्तुओं का दान देने से भी लाभ होता है। अगर सूर्य रेखा विवाह रेखा की किसी शाखा या अंगुठे की तरफ जाए तो यह विवाह के बाद भाग्योदय के संकेत देता है।

ये हैं वो निशान :

अगर किसी की हथेली पर सूर्य रेखा भी नहीं होती, लेकिन अगर हो और या वहां उन्नत पर्वत के साथ कुछ निशान हों तो यह व्यक्ति को अति विशिष्ट और क्षमतावान बनाता है। यह व्यक्ति को समाज में प्रसिद्धि और सम्मान प्रदान करता है, ऐसे व्यक्ति संभव है पूरी दुनिया में जाने जाएं।
अगर सूर्य रेखा आपकी हथेली पर हो और इसे कोई भी महीन रेखा कहीं से काट ना रही हो, तो यह अति शुभ लक्षण है। ऐसे व्यक्ति समाज में ऊंचा पद प्राप्त करते हैं।
अगर आपके हाथों में एक से अधिक सूर्य रेखा है तो आप बड़े ही विशेष है क्‍योंकि ऐसा बहुत ही विशिष्ट हाथों में होता है। हथेली पर एक से अधिक सूर्य रेखा का होना इस ओर इशारा करता है कि व्यक्ति समाज में अपने किसी अति विशिष्ट कार्य के लिए जाना जाएगा।
सूर्य पर्वत पर चक्र का निशान होना व्यक्ति को प्रतिभावान बनाता है। ऐसे व्यक्ति जिस भी क्षेत्र में रहें, उन्हें विशेष सफलता मिलती है।
Previous Post Next Post

.