अगर छोटा बच्चा लगाने लगे घर में झाड़ू तो ये इस बात का है लक्षण

साफ़-सफाई को सीधे लक्ष्मी माँ के आगमन से जोड़ा गया है। ऐसा माना गया है की अगर घर में साफ़ सफाई रहें तो लक्ष्मी माता प्रसन्न रहती है अन्यथा घर में गंदगी रहने पर घर में धन सम्पति से जुडी समस्याएं आती रहती हैं। हिन्दू धर्म में घर में झाड़ू लगाने के लिए भी अलग-अलग नियम कानून बनाये गए हैं और इन नियमों को अपनाकर घर में खुशहाली बनायी रखी जा सकती है। लेकिन क्या आपको पता है की अगर आपका छोटा बच्चा खेल-खेल में ही घर में झाड़ू उठा कर लगाने लगता है तो इसका भी एक विशेष अर्थ होता है। आइये आपको बताते हैं की क्या मतलब हो सकता है इस बात का।

बच्चा अगर उठा ले झाड़ू तो,इसके पीछे हो सकती है ये बात

घर में झाड़ू लगाने के अलग-अलग मान्यताओं में एक मान्यता ये भी है की अगर घर का कोई बच्चा अचानक सारी हरकतें छोड़कर अगर घर में झाड़ू लगाने लग जाए तो इसका मतलब है की आपके घर में कोई गेस्ट आने वाला है। अक्सर छोटे बच्चे घर में खेल-खेल में ही झाड़ू लगाने लग जाते हैं, बच्चों को बड़ों को झाड़ू लगते हुए देखकर उन्हें भी झाड़ू लगाने का मन होता है और इसका मतलब होता है साफ़ तौर पर की आपके घर किसी के आने की प्रबल संभावना है। इसके अलावा इस बात की भी संभावना बनती है की हो सकता है आने वाला गेस्ट आपके लिए कुछ शुभ संदेश या फिर आर्थिक रूप से सहायक सिद्द हो। इसका सीधा मतलब ये भी निकलता है की हो सकता है आपके घर पर लक्ष्मी मात की कृपा दृस्टि पड़ने वाली हो।

झाड़ू से जुड़ी अन्य मान्यताएं

इसके अलावा अगर आप किसी नए घर में रहने जा रहें है और घर की साफ़-सफाई करते समय यदि मरी हुई छिपकली वहां दिख जाए तो उस घर में रहने का मन त्याग देना चाहिए। ऐसा माना जाता है की इससे घर में कभी भी सुख शांति का वास नहीं होता और हमेशा कलह का माहौल बना रहता है। अगर घर आपका अपना है तो घर में प्रवेश करने से पहले विधि विधान पूर्वक पूजा पाठ करवा लेनी चाहिए। इसके अलावा झाड़ू का कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए, झाड़ू पर कभी पैर नहीं लगाना चाहिए और लाँघ कर भी नहीं चलना चाहिए। घर में साफ़ सफाई के लिए प्रयोग किये जाने वाले झाड़ू की भी ये सभी मान्यताओं को जरूर मानना चाहिए।
Previous Post Next Post

.