बंगलादेश की महिला वीजा खत्म होने के बाद रह रही थी जामुल में, चढ़ गई पुलिस के हत्थे

देशभर में जब नागरिक संशोधन कानून को लेकर हंगामा बरपा हुआ है। तब जामुल पुलिस के हाथ एक ऐसी महिला लगी है, जिसके पास बंगालदेश और भारत दोनों ही जगहों का पासपोर्ट है। वह नाम भी दोनों जगहों के लिए रखे हुए हैं। इतना ही नहीं भारत के एक पुरुष से विवाह कर उसने यहां की नागरिकता भी हांसिल कर ली है। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
जामुल थाना के प्रभारी लक्ष्मण कुमेटी की टीम क्षेत्र में अपराधिक व अवैध तौर पर रहने वालों की जांच में निकली थी। यहां मुखबिरी हुई कि एक संदिग्ध जोड़ा हाउसिंग बोर्ड 32 के एलआईजी 308 में रह रहा है। पुलिस ने महिला से पूछताछ किया तो उसने अपना नाम आशा अख्तर उर्फ प्रिया पराडकर बताया। इतना ही नहीं अपने पति का नाम हेमेंद्र पराडकर बताया।

महिला ने पूछताछ में दो पासपोर्ट पुलिस के सामने रखा, जिसमें एक बांग्लादेश का और दूसरा भारत का था। जिसको देखकर पुलिस अधिकारी हैरान रह गए कि दोनों देश का पासपोर्ट इसने कैसे बनवा लिया। बांग्लादेश के पासपोर्ट को देखने पर पाया गया कि उसमें वीजा २९ अक्टूबर २०१९ को समाप्त हो चुका है। जिसके बाद वह अवैध रूप से भारत में रह रही थी। इसके बाद उसने भारत गणराज्य का बताते हुए यहां का पासपोर्ट भी हांसिल कर लिया। इस तरह से वह दोनों देश का दस्तावेज रखे हुए है।

आशा के पास भारत सरकार का आधार कार्ड, पेन कार्ड, मतदाता परिचय पत्र, बैंक पासबुक भी है। प्रिया और हेमेंद्र ने 5 अक्टूबर 2017 को विवाह कर लिया। वह जानता था कि वह बंगादेश की है। इसके बाद विवाह का पंजीयन करवा लिया। जिसके आधार पर भारत की नागरिता मिली। पुलिस ने दोनों के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471, 34, भारतीय पासपोर्ट अधिनियम धारा 12 (1) ख व विदेशी विषयक अधिनियम धारा 14 का पाया जाकर अपराध दर्ज किया है। दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पश किया गया।
Previous Post Next Post

.