रोज़ खिलाए कौए और चींटी को भोजन, होगा ऐसा चमत्कार कि देखते रह जाओगे

सिर्फ हमारे धर्म में ही नहीं बल्कि और भी अनेक धर्मो में जानवरों का बहुत अधिक महत्त्व हैं. ये जानवर किसी ना किसी देवी देवता की सवारी होते हैं.
अब चींटी को ही ले लीजिए. चींटी एक मेहनती प्राणी होता हैं. वो दिन रात मेहनत करती हैं और अपने परिवार (ग्रुप) के साथ हमेशा मिल जुल कर रहती हैं. वैसे तो चींटियाँ हर घर में पाई जाती हैं लेकिन हम में से कई लोग इन्हें नज़रअंदाज कर देते हैं या पैरो तले कुचल देते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं यदि आप चींटियो को खाना खिलाते हैं तो आपकी किस्मत बदल सकती हैं.

चीटियों को खाना खिलाने का लाभ:

चीटियाँ दो प्रकार की होती हैं – लाल चींटी और काली चींटी. शास्त्रों में लाल चींटी को अशुभ माना गया हैं जबकि काली चींटी को शुभ माना जाता हैं. जो व्यक्ति चीटियों को आटा और चक्कर खिलाते हैं वो लोग सारे बंधन से मुक्त हो जाते हैं. उनके पिछले और इस जन्म के पाप धुल जाते हैं. इतना ही नहीं चीटियों को खाना खिलाने से आपको पूण्य मिलता हैं और आपके जीवन की सारी बाधाएं समाप्त होती हैं. जो लोग चीटियों को खाना खिलाते हैं उनके घर बरकत हमेशा बनी रहती हैं.

कौए को खाना खिलाने के लाभ:

जब भी घर की छत पर कौआ आकर बैठता हैं तो हम में से कई लोग इस पक्षी को नजरअंदाज कर देते हैं. कुछ लोग तो इस काले पक्षी को बिलकुल पसंद नहीं करते हैं और अपने घर के आस पास आने पर पत्थर मार उड़ा देते हैं. लेकिन हम आपको बता दे कि ऐसा करना आपकी कुंडली में वास्तु दोष डाल सकता हैं. इसलिए कभी भी किसी कौए को पत्थर नहीं मारे.
कौए को अमावस्या और पूर्णिमा के दिन भोजन कराने से हमारे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती हैं. यह पूर्वज आपके इस कृत्य से प्रसन्न होते हैं और सुख और सम्रद्धि का आशीर्वाद देते हैं. कुछ लोगो का तो यह भी मानना हैं कि कौए को भोजन कराने से घर की नकारात्मक उर्जा और दरिद्रता दोनों ही ख़त्म हो जाती हैं. वैसे तो आप कौए को कोई भी भोजन करा सकते हैं लेकिन पीले चावल कौए को खिलाने से सबसे अधिक लाभ मिलता हैं.
Previous Post Next Post

.