शास्‍त्रों के अनुसार स्त्रियों के ये राज बताते हैं कि वो बदल सकती हैं आपकी किस्‍मत

हमारे समाज में महिला किसी भी परिवार की लक्ष्मी के रूप में देखि जाती है और उसे सम्मान का प्रतीक माना जाता हैं। बता दे की स्त्रियों के कुछ ऐसे ख़ास गुण होते है जो उन्हें बेहद ही खास बनाते हैं और समाज में एक अलग स्थान दिलाते हैं। आपको बता दे की हमारे भारतीय समाज में कहा जाता हैं की एक स्त्री ही दूसरी स्त्री को बेहतर समझ सकती है और समझा भी सकती है, यही वजह है की महाभारत काल में द्रोपदी ने महिलाओं को सुखी जीवन जीने के लिए कुछ बातें बताई थी जो आज भी कहीं ना कहीं उनके काम आती है।
बताना चाहेंगे की अक्सर महिलाएं अपने पति को वश में करने के लिए तंत्र-मंत्र, औषधि आदि का प्रयोग करती है जो कि उन्हे नहीं करना चाहिए। माना जाता है की अगर पति को उनके इस कारनामे का पता चल जाने पर वैवाहिक संबंध मे खटास आ सकती है। हालाँकि आपको बता दे की ऐसा सिर्फ वही स्त्री करती हैं जो अपने पति से कई कारणों से परेशान रहती हैं।
शास्त्रों के अनुसार किसी भी स्त्री को बार-बार दरवाजे पर या खिड़की पर खड़े नहीं रहना चाहिए, कहा जाता है की ऐसा करने वाली स्त्रियों को बुरी नजर से देखा जाता है। स्त्रियों के लिए हमेशा से हिदायत रही है की किसिभी अनजान व्यक्ति से बातचीत करने से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से वो परेशानी में आ सकती हैं। ऐसा कहा जाता है की स्त्री को चाहिए कि वे सदा वही बात करें जिससे किसी को खुशी मिले। जिससे किसी का अपमान हो या उसे दुख मिले ऐसी बात नहीं करनी चहिए।

शास्त्रों के अनुसार वैवाहिक जीवन को सुखी व समृद्धि बनाए रखने के लिए घर की स्त्रियों को बुरे व्यवहार वाली और चरित्रहीन महिलाओं के संपर्क में नहीं रहना चाहिए, ऐसा करने से गृहस्थ जीवन में समस्या आती हैं। बता दे की स्त्रिओं को अपने परिवार के सभी रिश्तों की जानकारी बखूबी रखनी चाहिए क्योंकि यदि एक भी रिश्ता भूल गए तो वह रिश्ता पारिवारिक सम्बन्ध बिगाड़ सकता है।

Previous Post Next Post

.