ब्रांडेड कंपनी के नाम पर नकली शैंपू बनाने की कंपनी का किया गया भंडाफोड़

कोतवाली पुलिस ने मंगलवार देर शाम मोहल्ला सद्दीकपुरा में ब्रांडेड कंपनी का लोगो लगाकर नकली शैंपू बेचने का भंडाफोड़ किया। मुखबिर की सूचना पर मारे गए छापे के दौरान पुलिस ने दो युवकों को गिरफ्तार किया। उनके पास से 117 लीटर नकली शैंपू, 125 नकली शैंपू से भरी शीशी व कंपनी का लोगो लगी हुईं 275 खाली शीशी बरामद की।
कोतवाली प्रभारी निरीक्षक महावीर सिंह चौहान ने बताया कि मंगलवार की देर शाम पुलिस गश्त कर रही थी। इसी दौरान मुखबिर से सूचना मिली कि मोहल्ला सद्दीकपुरा में नकली शैंपू बनाकर उसे बेचने वाले दो युवक माल लेकर आए हैं। जानकारी मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंच बताए गए स्थान की घेराबंदी कर दोनों युवकों को दबोच लिया। पुलिस ने दोनों की निशान देही पर एक मकान से ब्रांडेंड कंपनियों के लोगो लगीं 275 खाली शीशी, 125 नकली शैंपू से भरी सीसी समेत 117 लीटर बना हुआ नकली शैंपू भी बरामद किया। 

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किए गए दोनो युवक मोहल्ला सददीकपुरा निवासी सरफराज और दिलावर हैं। पूछताछ में उन्होंने बताया कि कई तरह के केमिकल, सतरीटा, डिटर्जेंट पाउडर, पशुओं की चर्बी और तमाम रंग लेकर नकली शैंपू तैयार करते हैं। इसके बाद वह कबाड़ी वालों से विभिन्न ब्रांडेंड कंपनियों के पुराने शैंपू की खाली शीशी खरीद लेते हैं। और उसको साफ करके उसमें उनके द्वारा तैयार किया गया नकली शैंपू भरा जाता हैं। 

फिर गांव देहात में जाकर उसे बेचने का काम करते है। इससे पहले वह नोएडा में रहकर उक्त काम किया करते थे। वहीं दोनों ने नकली शैंपू बनाने का काम सीखा हैं। कोतवाल ने बताया कि जब इस मामले में डॉक्टर से जानकारी की गई तो चिकित्सक ने बताया कि इन शैंपू के प्रयोग करने से चर्म रोग, आंखों का रोग और अनेक संक्रामक रोग हो सकते हैं। दोनो आरोपियों को जेल भेजा गया हैं।
Previous Post Next Post

.