अगर चाहते है छरहरा शरीर तो अपनाएं आयुर्वेदिक जीवनचर्या, शरीर रहेगा स्वस्थ


किसी सुगठित शरीर वाले शख्स को देखकर आप ईर्ष्या भाव ले भर जाते है और सोचते है काश मेरा भी शरीर ऐ छरहरा होता कितना अच्छा होता। वजन कम करने की चाहत में लोग अक्सर काफी सक्रिय हो जाते हैं और कुछ भी करना शुरू कर देते हैं। डायटिंग से लेकर वेट लॉस सप्लीमेंट्स तक वजन घटाने के ढेरों तरीके हैं। लेकिन वजन घटाने के लिए सही तरीके को समझना बेहद जरूरी है। इसलिए वजन घटाने के लिए कीटो, पैलियो और इंटरमिटेंट डाइट सहित अन्य तरीके अपनाने से पहले यह समझना बेहद जरूरी है कि आपके लिए वास्तव में कौन-सा तरीका सही है। वजन कम करने के लिए पुराने तरीके आज भी बेहतर माने जाते हैं और इनका आयुर्वेद में भी बहुत महत्व है। 


आयुर्वेद एक ऐसा प्राचीन भारतीय वेलनेस सिस्टम है जो शरीर के वजन को कंट्रोल करने में मदद करता है। आयुर्वेदिक लाइफस्टाइल अपनाने से व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है बल्कि वजन भी कम होता है और शरीर अंदर से मजबूत बनता है। आयुर्वेद में हेल्दी भोजन का बहुत महत्व है। एक ही बार में अधिक भोजन करने की बजाय दिन में तीन बार हल्का भोजन करना चाहिए। इससे मेटाबोलिज्म मजबूत बनता है और वजन नियंत्रित होता है। यदि आप दिन में तीन बार भोजन करते हैं तो प्रोसेस्ड या जंक फूड खाने से परहेज करना चाहिए। इसका कारण यह है कि दो भोजन के बीच अंतराल वाले समय में बॉडी शुगर को खर्च करती है और फैट जमा नहीं होने देती है। इससे शरीर में एनर्जी लेवल बना रहता है और मोटापा भी नहीं बढ़ता है।


वजन कंट्रोल रखने के लिए भोजन एक निर्धारित समय पर करना चाहिए। किसी भी समय कुछ भी खा लेने से सूजन और कब्ज की समस्या होती है। आयुर्वेद के अनुसार शाम 7 बजे से पहले डिनर कर लेना चाहिए। इससे शरीर को रात भर डिटॉक्सीफाई करने के लिए पर्याप्त समय मिलता है और सुबह आप तरोताजा महसूस करेंगे। आयुर्वेद के अनुसार अधिक भूख को नियंत्रित करने के लिए भोजन में खट्टा, मीठा, कड़वा, नमकीन, कसैला और तीखा फ्लेवर शामिल करना चाहिए। इससे शरीर पर अतिरिक्त फैट नहीं जमता है और मोटापा कम होता है।


आयुर्वेद में घर पर बने ताजे और स्वच्छ भोजन का बहुत महत्व है। बाजार के खाने को चटपटा बनाने के लिए कई तरह की चीजें मिलायी जाती हैं जो सेहत के लिए हानिकारक होती हैं। रोजाना समय पर घर का भोजन करने से शरीर स्वस्थ रहता है और वजन भी कंट्रोल होता है। अपनी खानपान की आदतों में सुधार करने और आयुर्वेदिक लाइफस्टाइल अपनाने से कम समय में ही शरीर का वजन कम हो जाता है।

Previous Post Next Post

.