आज तक नहीं पता होगा आपको कुत्तों के रोने से जुड़ा यह राज, यहाँ पढ़ें

कुत्ता एक ऐसा जानवर है जो करीब-करीब हर जगह पाया जाता है और सबसे बड़ी बात की कुत्ता ही एक मात्र ऐसा जानवर है जो हमारे साथ सबसे अच्छा दोस्ताना व्यवहार रखता है। मगर कुत्ते से जुड़ी एक एक बात जिससे लगभग सभी काफी बुरा मानते है वह है उसके रोने की आदत जिसे हर कोई अपशकुन मानता है और कई लोग तो इसके रोने को आत्माओं से जोड़ देते है। जब भी घर के आसपास कोई कुत्ता रोता है तो लोग उसे यह मान कर भागते है की यदि कुत्ता रो रहा है तो कोई घर का बड़ा-बुजुर्ग भगवान को प्यारा हो सकता है।
यह सब बातें कितनी सच है या फिर केवल अन्धविश्वास है यह तो भगवान ही जाने, मगर कुत्ते को रोने पर गालीयां गॉलीयां ढेर सारी मिलती है कभी कभी तो चप्पल और लाठी भी पड़ जाती है। आपको बता दे कि प्राचीन काल से कुत्तों को यमराज का दूत मन जाता है और ऐसी मान्यता है कि आसपास कहीं भूत या आत्मा दिख जाये तो ये रोते या चिल्लाते हैं। बता दे कुत्ते अकेले रहना पसंद नहीं करते हैं, इस कारण भी कभी कभी कुत्ते आवाज़ निकालते हैं।
सबसे पहले एक बात आपको स्पष्ट कर दे किएस जरूरी नही की हर बार कुत्ते रोते ही हो, कई बार वो आपस में एक दूसरे से संदेशव्यवहार भी करते हैं क्योंकि वो बोल तो सकते नही और ना ही उनके पास संदेश भेजने का कोई अन्य माध्यम है जैसे कि हमारे पास हमारा फ़ोन औरना ही इंटरनेट। इसी लिए के बार वो रात में हाउल यानी की रोते या चिल्लाते है। इस प्रणाली से वह दूर मौजूद कुत्तों से बातों का आदानप्रदान करते हैं।

अक्सर कई बार कुत्ते भूखे रहने या दर्द की वजह से भी रोते हैं, तो ऐसा सोचना गलत है की अपने रुदन से वो किसी की मौत का फरमान सुना रहे हों। बेहतर यही होगा की अब जब कभी आप के मोहल्ले में कोई कुत्ता रोता दिखे तो उसे एक रोटी डाल दीजिये शायद वह शांत हो जाये। रोटी देने के दो फायदे होंगे पहला आपको ऐसा करने से पुण्य भी मिलेगा दूसरा कुत्ते के पेट में भी ठंडक पड़ जाएगी और वो शांत हो जाएगा जिससे आपकी नींद में खलल नहीं पड़ेगी।

Previous Post Next Post

.