अगर नवरात्र में मिलने लगें ये शुभ संकेत तो समझ लें कि माता रानी आ गई हैं आपके घर

नवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। साल में दो बार ये पूरे भारत में मनाया जाता है। इसको मनाने के अलग-अलग तरीके हो सकते हैं लेकिन ये त्योहार हर कोई मनाता है। खासकर ये दो नवरात्र मनाए जाते हैं लेकिन हिंदी पंचांग के अनुसार एक वर्ष में चार बार नवरात्र आते हैं। हिंदू नववर्ष चैत्र माह के शुक्ल पक्ष के पहले दिन यानि पहले नवरात्रे को मनाया जाता है। चैत्र और अश्विन माह के नवरात्रे बहुत लोकप्रिय हैं।
अश्विन माह के शुक्ल पक्ष में आने वाले नवरात्रों को दुर्गा पूजा नाम से और शारदीय नवरात्रों के नाम से भी जाना जाता है। अश्विन माह के नवरात्रों को महानवरात्र माना जाता है ये दशहरे से ठीक पहले होते हैं। नवरात्र खत्‍म होने से पहले घर में माता लक्ष्‍मी के पग अपने दरवाजे पर लगाएं ये बहुत शुभ होता है। घर के बाहर पोरन लगाएं इससे घर में नकारात्‍मक उर्जा दूर रहती है लेकिन ध्‍यान रहे कि उसमें फूल न रहे। नवरात्र में बर्तन में पानी लेकर उसमें फूल डाल दें और उसे घर के मेन गेट पर नार्थ या इस्‍ट में रख दें।
अगर आपको माता लक्ष्‍मी को मनाना है तो घर या दुकान के मेन गेट पर मां लक्ष्‍मी की ऐसी तस्‍वीर लगाएं जिसमें माता लक्ष्‍मी कमल के फूल पर विराजमान हो ऐसा करने से घर में शुभ फल आने लगते हैं। घर या दुकान के मेन गेट पर शुभ लाभ बनाएं या लिखें और हो सके तो चांदी का स्‍वास्तिक लगाएं।
लोग अक्‍सर पूजा करते समय कुछ गलतियां कर जाते हैं लेकिन वो सोच भी नहीं सकते लेकिन इस चूक से आपका सारा जीवन बर्बाद हो जाता है। तुलसी तोड़कर रखना नहीं चाहिए इतना ही नहीं सूखी हुई तुलसी नहीं चढ़ानी चाहिए अगर आप तुलसी चढ़ाए हैं और सुख जाए तो उसे हटा देने चाहिए।

सुखे हुए हार या फिर फूल पूजा करने के बाद शाम होने से पहले हटा देने चाहिए या फिर आप अगर ये फूल हटा देते हैं तो उसे इक्‍ठ्ठा करके भी नहीं रखने चाहिए ऐसा करने से आपके घर में धन की हानि होगी।

आज हम आपको कुछ ऐसे संकेत बताने जा रहे हैं जिससे अापको आभास होता है कि माता लक्ष्‍मी या फिर माता दुर्गा आपके घर पधार चुकी हैं। यदि इन दिनों आपको सपने में उल्‍लू, पेड़ पौधे, हरियाली आदि आने लगते हैं तो समझ लिजिए की आपके घर माता रानी पधार चुकी हैं। यदी आपको अचानक से कोई सोलह श्रृंगार करते हुए महिला दिखें तो ये भी संकेत है कि माता आपके यहां आ चुकी है।
Previous Post Next Post

.