जुकरबर्ग ने फेसबुक पोस्‍ट में बताया क्‍यों किया जियो से ये समझौता

कोविड-19 के विश्‍वव्‍यापी प्रकोप और कई देशों में लॉकडाउन के बीच फेसबुक और जियो प्लेटफॉर्म्स के साथ करार कर ली है। इसके तहत जियो प्लेटफॉर्म की 9.99 फीसदी हिस्सेदारी के लिए फेसबुक 43,574 करोड़ रुपये का निवेश करेगा, जिसके बाद फेसबुक, जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड का सबसे बड़ा शेयरहोल्डर बन जाएगा। इस डील के पूरा होने से दोनों कंपनियों का बिजनेस बढ़ने के साथ रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे। इसबीच फेसबुक के सह-संस्थापक और सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने इस समझौते पर अपनी बात कहते हुए एक फेसबुक पोस्ट लिखी है।
जुकरबर्ग ने अपने पोस्‍ट में लिखा है कि इस समय दुनिया में बहुत कुछ चल रहा है, लेकिन मैं भारत में हमारे काम को लेकर एक अहम बात साझा करना चाहता हूं। जुकरबर्ग ने आगे लिखा है कि फेसबुक अब जियो प्लेफॉर्म्स के साथ जुड़ने जा रहा है। हम भारत में एक बड़ा निवेश करने जा रहे हैं और उससे भी बड़ी बात ये है कि हम लोग एक साथ मिलकर कुछ बड़े परियोजनाओं पर काम करने वाले हैं, जो भारत के लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करेगा।
फेसबुक सीईओ ने लिखा कि दुनिया में लॉकडान के इस वक्त में इनमें से बहुत सारे आंत्रप्रेन्‍योर को ऐसे डिजिटल टूल की जरूरत है, जिस पर वह अपने ग्राहकों को ढूंढने और बात करने के लिए भरोसा कर सकें। यहां पर उन सबकी मदद कर सकते हैं। इसलिए हम जियो के साथ साझेदारी कर रहे हैं, ताकि लोगों और छोटे कारोबारियों की मदद की जा सके, जिससे नए अवसर पैदा किए जा सकें। उन्‍होंने कहा कि मैं मुकेश अंबानी और पूरी जियो टीम को इस समझौते और साझेदार के लिए धन्यवाद कहना चाहता हूं। हम इस ओर कदम को बढ़ाने के लिए आगे बढ़ रहे हैं।
उल्‍लेखनीय है कि भारत में फेसबुक और वाट्सऐप की सबसे बड़ी कम्‍युनिटीज व  बहुत सारे योग्‍य आंत्रप्रेन्‍योर हैं। साथ ही देश अभी एक बड़े डिजिटल ट्रांस्‍फॉर्मेशन  के बीच में है और जियो जैसी संस्‍था ने लाखों लोगों के साथ छोटे कारोबारियों को ऑनलाइन के दायरे में लाने में भी अहम भूमिका निभाई है। गौरतलब है कि इस वक्‍त ये बहुत ही अहम है, क्योंकि छोटे कारोबारी किसी भी अर्थव्‍यवस्‍था में सबसे खास होते हैं और भारत में 6 करोड़ से भी ज्‍यादा छोटे करोबारी हैं। 
Previous Post Next Post

.