पति से झगड़कर नहर में कूदी महिला, बचाने को देवर ने भी लगा दिया छलांग

टोडरपुर गांव से पति से झगड़ा कर महिला दो बच्चियों के साथ आवर्धन नहर किनारे पहुंच गई। उसे बचाने के लिए देवर पीछे-पीछे गया। दोनों के कपड़े नहर किनारे मिले। दोनों बच्चियां भी वहीं खड़ी थीं। दोनों नहर में डूब गए हैं या फिर लापता हैं इसका अभी पता नहीं चल पाया है। परिजनों व गोताखोरों द्वारा दोनों की नहर के पानी में तलाश की जा रही है। वहीं थाना सदर यमुनानगर ने दोनों की गुमशुदगी का केस दर्ज किया है। जानकारी के अनुसार टोडरपुर गांव निवासी 28 वर्षीय आशा का 17 जनवरी की शाम अपने पति नरेश के साथ किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। 
विवाद इतना बढ़ गया कि आशा अपनी आठ साल की बच्ची शगुन व तीन साल की बेटी को लेकर नहर की तरफ चली गई। वह घर ये कहकर गई कि बच्चों के साथ नहर में कूद कर अपनी जान दे देगी। शाम करीब साढ़े सात बजे वह घर से चली गई। उसके पीछे ही देवर शुभम उसे बचाने के लिए निकल गया। परंतु दोनों काफी देर तक घर नहीं पहुंचे। परिजन उनकी तलाश करते हुए टोडरपुर में आवर्धन नहर किनारे बने पुल के नजदीक पहुंचे। परिजनों ने देखा कि नहर किनारे दोनों बच्चियां खड़ी थीं। जिनका रो-रो कर बुरा हाल था। पास में ही आशा की शॉल, जर्सी व चप्पल तथा शुभम की शॉल, जर्सी व चप्पल पड़े थे। 

लोगों ने इसकी सूचना थाना सदर यमुनानगर में दी। परिजनों ने बच्चियों से पूछताछ की तो शगुन ने बताया कि मां नहर में कूद गई। चाचा ने उसका हाथ पकड़ा था। वो भी पानी में चला गया। तीन दिन से परिजनों द्वारा उनकी नहर में तलाश की जा रही है। परंतु अभी तक दोनों का कुछ पता नहीं चला है। थाना सदर यमुनानगर एसएचओ सुखविंद्र सिंह का कहना है कि। पुलिस हर पहलू की जांच कर रही है। इसके साथ ही नहर में भी तलाश की जा रही है। अभी तक उनका कुछ पता नहीं चला है।
Previous Post Next Post

.