क्या आप जानते हैं गाय की चौंका देने वाली रहस्मयी बातें, जानने के लिए एक नज़र डाले इस रिपोर्ट पर

गाय को हिन्दू धर्म शास्त्र में विशेष स्थान दिया गया है ये तो हम सभी जानते हैं। हिन्दुओं के लिए गाय माता स्वरुप है और इसे सबसे पवित्र पशु माना गया है। इतना ही नहीं बल्कि गाय के दूध को सबके लिए आवश्यक माना जाता है क्यूंकि इसमें अधभूत पोषक तत्व होते हैं। इसके अलावा गौ मूत्र को भी कई सारे रूग्ण को दूर करने का सबसे पवित्र और शक्तिशाली तत्व माना गया है और हिन्दुओं में इसे सबसे ज्यादा पवित्र मानते हैं। अन्य पशुओं की तुलना में गाय को सबसे ज्यादा मासूम पशु माना जाता है और अहम् भी। आज हम आपको इन्ही गौ माता से जुड़े कुछ विशेष बातों के बारे में बताने जा रहें जिसे सुनकर आपको भी हैरानी होगी।

ये हैं कुछ हैरान कर देने वाले तथ्य

ज्योतिषशास्त्रों के अनुसार ऐसा माना गया है की अगर किसी के घर में किसी प्रकार का वास्तु दोष हो तो गाय सेवा करने से वो कुछ ही दिनों में दूर हो जाता है। पुराने ज़माने में लगभग सभी हिन्दू घरों में एक गाय जरूर होती थी और घर के सभी सदस्य उस गाय की सेवा पुरे श्रद्धा भाव से करते थे। अब ये चलन कम हो गया है, अब एक तो लोगों के पास इतना वक़्त नहीं है और ना ही इतनी क्षतमा की गाय सेवा में अपना पूरा वक़्त दे सकें। इसके अलावा ये भी मान्यता है की अगर किसी व्यक्ति के यात्रा के दौरान उसके दाएं तरफ से गाय गुजर जाए तो उसकी यात्रा निश्चित रूप से सफल होगी ही। अगर आप कोई आवश्यक कार्य पूरी करने जा रहें हों और रस्ते में कहीं आपको गाय का बछड़ा दिख जाए तो ऐसा माना जाता है की होने वाला कार्य जरूर पूरा होगा। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति के राशि में किसी प्रकार का दोष हो तो वो भी गौ सेवा करने से दूर हो जाता है।

गाय के शरीर में बना कूबड़ इस ग्रह का प्रतीक है

ऐसी मान्यता है की गाय के शरीर के हर एक भाग में ईश्वर का वास होता है और किसी के सपने में गाय माता का दर्शन हो तो इसका मतलब है की आपके जीवन में खुशियां आने वाली है। इसके अलावा किसी सुबह कार्य को करने का सबसे अच्छा महूर्त गोधूलि बेला को माना गया है, इस समय किया जाने वाला कार्य खूब फलता है विषेकर विवाह उत्सव। आपको जानकर हैरानी होगी की गाय की पीठ पर निकले हुए कूबड़ को बृहस्पति ग्रह माना जाता है। गाय के घी को भी सबसे ज्यादा पौष्टिक और सारे रोगों को दूर करने वाला माना जाता है, गया के घी से बढ़कर शक्तिशाली और ऊर्जा प्रदान करने वाला और कोई दूसरा भोज्य पदार्थ नहीं है।
Previous Post Next Post

.