अपनी लम्बाई के नाप का धागा लेकर चुपचाप कर ले ये उपाय, फिर होगा ऐसा चमत्कार कि देखते रह जाओगे !

अगर ज्योतिषशास्त्र की बात करे तो ज्योतिषशास्त्र के अनुसार हर व्यक्ति की कुंडली में नौ ग्रह होते है और यह नौ ग्रह अपना प्रभाव भी दिखाते है. जी हां इन्ही ग्रहो की स्थिति में परिवर्तन के कारण ही व्यक्ति को अच्छे और बुरे दिन देखने को मिलते है. बता दे कि इन नौ ग्रहो में से तीन ग्रह ऐसे है, जिनसे व्यक्ति सबसे ज्यादा डरता है. वो ग्रह राहु, केतु और शनि है. बरहलाल हिन्दू धर्मशास्त्र के अनुसार शनि देव का चरित्र भी दंडाधिकारी के रूप में माना जाता है. अगर सीधे शब्दों में कहे तो शनिदेव कर्म और सत्य दोनों चीजों को जीवन में अपनाने की प्रेरणा देते है.
गौरतलब है कि यदि आप शनिदेव को किसी दूसरे तरीके से प्रसन्न करना चाहते है तो इसके लिए भी शास्त्रों में कई उपाय बताये गए है. जी हां वैसे भी शनिदेव को प्रसन्न करने से आपका जीवन यू ही सफल हो जाएगा. बता दे कि यदि आप शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते है तो शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे एक दीपक जलाये और दोनों हाथो से पीपल के पेड़ को स्पर्श करे. इसी दौरान पीपल के पेड़ की परिक्रमा भी करे और शनि मंत्र का जाप करे. जी हां शनि मंत्र का जाप कुछ इस प्रकार है. ॐ शं शनैश्चराय नमः .
बता दे कि पीपल के पेड़ की पूजा करते समय और दीपक जलाते तथा परिक्रमा करते समय इस मंत्र का जाप करते रहना चाहिए. इससे आपकी साढ़ेसाती के साथ ही आपकी सभी परेशानिया दूर हो जाएंगी. इसके इलावा साढ़ेसाती के बुरे प्रभाव से बचने के लिए इस दिन व्रत रखने वाले लोगो को दिन में एक बार नमकविहीन यानि बिना नमक के भोजन करना चाहिए.
इसके साथ ही यदि आपकी कोई विशेष मनोकामना है तो शनिवार के दिन अपनी लम्बाई के नाप का लाल रंग का धागा लेकर आम के पत्ते पर लपेट दे. इसके बाद इस पत्ते और लपेटे हुए धागे को लेकर अपनी मनोकामना के बारे में मन ही मन में सोचे और फिर इस पत्ते तथा धागे को जल में प्रवाहित कर दे. बता दे कि ऐसा करने से आपकी मनोकामना जल्दी ही पूरी हो जायेगी.

बरहलाल कल शनिवार है और यदि आप भी शनिदेव को खुश करके अपनी मनोकामना पूरी करना चाहते है तो इस उपाय को एक बार जरूर आजमाएं.

Previous Post Next Post

.