ATM में स्किमर लगा क्लोन बना कर उड़ाते थे लाखों, और अब पकड़े गए

जमशेदपुर के बिष्टुपुर की साइबर थाना पुलिस ने एटीएम में स्किमर लगाने के बाद एटीएम कार्ड का क्लोन बना कर बैंक खाते से लाखों रुपये उड़ाने वाले आरोपितों को धर दबोचा। पकड़े गए आरोपितों में मानगो के आजाद नगर थाना क्षेत्र के 15 नंबर रोड का रहने वाला राकेश कुमार और मानगो थाना क्षेत्र के पोस्टआफिस रोड का शामिल धीरज है। ये दोनों सर्च इंजन पर बैंक व अन्य आवश्यक सेवाओं का हेल्पलाइन बदल कर भी लोगों को जाल में फंसा कर उनका बैंक खाता खाली कर देते थे। साइबर पुलिस ने दोनों आरोपितों को जेल भेज दिया है।
आरोपित राकेश कुमार व धीरज के पास से एक लैपटाप, दो स्मार्टफोन और दो एटीएम कार्ड बरामद हुए हैं। पुलिस ने वेबसाइट बना कर लोगों की रकम हड़पने वाले गोविंदपुर थाना क्षेत्र के पटेलनगर निवासी राहुल कुमार मिश्रा को रविवार को गिरफ्तार कर किया था। पूछताछ में राकेश और सुधीर का भी नाम सामने आया था। इस पर पुलिस ने रविवार की रात को ही छापामारी कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि गिरोह के मास्टरमाइंड कोलकाता में बैठा राहुल केसरी और मानगो के शंकोसाई का महेश पोद्दार हैं। वो लोग एटीएम में स्किमर लगा कर उसका क्लोन बनाते थे। 

क्लोन की सारी जानकारी वो राहुल केसरी और महेश पोद्दार को देते थे। ये दोनों इससे एटीएम बना कर लोगों के बैंक खाते खाली कर देते थे। पुलिस ने रविवार को ही महेश पोद्दार के घर से 13 लाख रुपये और ढेर सारे एटीएम कार्ड बरामद किए हैं। साइबर थाना प्रभारी उपेंद्र कुमार मंडल ने बताया कि ये लोग सर्च इंजन पर जाकर बैंकों और अन्य अनिवार्य सेवाओं का नंबर बदल देते थे। यदि किसी ने इनके द्वारा बदले गए हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर दिया तो उससे ये लोग घुमा-फिरा कर एटीएम की जानकारी हासिल कर लेते थे। फोन हैक कर ओटीपी भी उससे खरीदारी और रकम ट्रांसफर कर बैंक खाता खाली कर देते थे।

OLX के जरिए भी करते थे धोखाधड़ी

ओएलएक्स पर अपने सामान बेचने का विज्ञापन डालने वालों को भी ये लोग फोन कर उनसे सारी डिटेल हासिल कर लेते थे। वो विज्ञापन डालने वाले से कहते थे कि वो उसका सामान खरीदना चाहते हैं। वो लिंक भेजते थे। इस पर जाने के बाद भी बैंक की तमाम डिटेल मांगते थे और इसके बाद बैंक खाते से पैसा उड़ाना आसान हो जाता था।
Previous Post Next Post

.