जाने मृत्यु से पहले यमराज जी देते है ये 4 संकेत, जिन्हे नहीं समझ पाते हम !

इसमें कोई शक नहीं कि जीवन और मृत्यु इस संसार के वो दो पहलू है, जिन्हे कोई नहीं झुकला सकता. जी हां जो इंसान दुनिया में आया है, उसे एक न एक दिन इस दुनिया से जाना भी पड़ेगा. बरहलाल अगर हम अपनी मृत्यु को हंस कर स्वीकार करते है, तो इससे हमारी शवयात्रा भी सफल हो जाती है. वैसे अगर हम आपसे कहे कि आप अपनी मृत्यु के बारे में पहले से ही जान सकते है, तो इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी? जी हां दरअसल शिवपुराण के अनुसार ऐसा माना जाता है कि यमराज जी मृत्यु से एक महीना पहले ही मृत्यु के संकेत दे देते है, बस हम इंसान ही उन संकेतो को पहचान नहीं पाते. तो चलिए आज हम इन्ही संकेतो के बारे में आपको विस्तार से बताते है.
सबसे पहले संकेत के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जिस व्यक्ति के सिर पर अचानक कौआ या कबूतर आकर बैठ जाए तो उस व्यक्ति के पास जीने के लिए ज्यादा समय नहीं है. जी हां इसका मतलब ये है कि उस व्यक्ति की मृत्यु का समय काफी नजदीक है. अगर सीधे शब्दों में कहे तो वो इंसान इस दुनिया में केवल एक महीने के ही मेहमान है. इसके इलावा दूसरे संकेत के अनुसार यदि किसी व्यक्ति का शरीर पीला या सफेद पड़ने लगे और साथ ही उसके शरीर पर लाल निशान दिखने लगे तो समझ लीजिये कि वो इंसान इस दुनिया में केवल छह महीने का ही मेहमान है, यानि उसकी मृत्यु भी दूर नहीं है.
इसके साथ ही जिस व्यक्ति को सूरज और चाँद के आस पास का घेरा लाल या काला दिखाई देने लगे तो समझ ले कि उस व्यक्ति की मृत्यु भी नजदीक ही है. गौरतलब है, कि जिस व्यक्ति को चाँद या तारे न दिखाई दे तो उस व्यक्ति की मृत्यु एक महीने के अंदर होना तय है. बता दे कि जब किसी व्यक्ति को जल, तेल, घी या आईने में अपना चेहरा दिखाई देना बंद हो जाएँ तो समझ ले कि यमराज जी का बुलावा बस आने ही वाला है.

बरहलाल ये तो शास्त्रों की बात है और इसे मानना या न मानना केवल आपके ऊपर है.

Previous Post Next Post

.