नवरात्रि के नौ दिन भूल कर भी न करे ये 4 काम, वरना माता रानी हो जाएंगी नाराज !

ये तो सब जानते है कि  नवरात्रि के दिनों में देवी पूजन और नौ दिन व्रत रखने का कितना खास महत्व है. जी हां ये दिन माता रानी के दिन होते है और ऐसे में इन दिनों को बहुत शुभ माना जाता है. बरहलाल माँ दुर्गा के नौ रूपों की आराधना करने का यह पवित्र अवसर कुछ ही दिनों में शुरू होने वाला है. ऐसे में जो लोग इन दिनों में व्रत रखने वाले है, उनके लिए कुछ खास नियम भी लागू होते है, जिनका उन्हें पालन करना ही पड़ता है. वैसे आपको बता दे कि भारत के प्राचीन ऋषि मुनियो ने रात को दिन की अपेक्षा यानि रात को दिन की बजाय ज्यादा महत्व दिया है.
यही वजह है, कि हमारे सभी त्यौहार जैसे कि दीवाली, होलिका, शिवरात्रि और नवरात्रि आदि सब रात को ही मनाये जाते है या यूँ कहे कि इन्हे रात में ही मनाने की परम्परा है. अब इसमें कोई दोराय नहीं कि यदि रात्रि यानि रात का इतना महत्व न होता तो इन उत्सवों को रात्रि न कह कर दिन ही कहा जाता है, लेकिन एक सच ये भी है कि नवरात्रि को हम नवदिन तो नहीं कह सकते. गौरतलब है, कि मनीषियों ने साल में दो बार नवरात्रो का विधान बनाया है. इसके अनुसार विक्रम संवत के पहले दिन यानि चैत महीने शुक्ल पक्ष की पहली तिथि से नौ दिन तक यानि नवमी तक और इसके ठीक छह महीने बाद आश्विन महीने शुक्ल पक्ष की पहली तिथि से लेकर महानवमी यानि विजयादशमी एक दिन पहले तक ये नवरात्रि मनाई जाती है.
वही सिद्धि और साधना की नजर से शारदीय नवरात्रो को ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है. बरहलाल जब हिन्दू धर्म में नवरात्रो का इतना महत्व है, तो इसके व्रत शुरू करने से पहले क्यों न इसके नियमो के बारे में थोड़ी सी चर्चा की जाए. इसमें सबसे पहले नियम के अनुसार नवरात्रि में नौ दिन का व्रत रखने वालो को दाढ़ी मूंछ या बाल नहीं कटवाने चाहिए. वही इस दौरान बच्चे का मुंडन करवाना जरूर शुभ माना जाता है. इसके इलावा इन नौ दिनों में नाख़ून नहीं काटने चाहिए. गौरतलब है कि यदि आप नवरात्रि में कलश स्थापना कर रहे है या माता की चौंकी कर रहे है या अखंड ज्योति जला रहे है, तो ऐसे में घर खाली छोड़ कर कही ना जाए, यानि ऐसे में घर में किसी न किसी सदस्य का होना जरुरी है.
इसके साथ ही इन दिनों में प्याज, लहसुन और नॉन वेज तो बिलकुल न खाएं. बता दे कि नौ दिन का व्रत रखने वाले लोगो को काले कपडे नहीं पहनने चाहिए. यहाँ तक कि व्रत रखने वालो को बेल्ट, चप्पल, जूते, बैग आदि चमड़े की चीजों का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए. वैसे भी आज कल ये सामान हर रूप में बाजार में मिलता है. आपको बता दे कि इन नौ दिनों में व्रत रखने वालो को निम्बू भी नहीं काटना चाहिए.
इसके साथ ही व्रत के नौ दिनों में खाने में अनाज और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए. इस दौरान आप खाने में कुट्टू का आटा, समारी के चावल, सिंघाड़े का आटा, साबूदाना, सेंधा नमक, फल, आलू, मूंगफली और मेवे आदि सब खा सकते है. वैसे विष्णु पुराण के अनुसार \नवरात्रि में व्रत रखने के दौरान दिन के समय सोना, तम्बाकू चबाना और शारीरिक संबंध बनाना आदि भी वर्जित है यानि इससे भी आपको व्रत का फल नहीं मिलता. इसलिए इन बातो का खास ध्यान रखे.

बरहलाल हम उम्मीद करते है कि इस बार के नवरात्रे आपके लिए बेहद मंगलमय हो और माता रानी की कृपा हमेशा आप पर बनी रही.

Previous Post Next Post

.