कोरोना से बचाने के लिए तिहाड़ से 3600 कैदी छोड़े गए


लॉकडाउन के बीच इन 34 दिनों में एशिया की सबसे बड़ी तिहाड़ जेल से लगभग 3600 कैदियों को अंतरिम जमानत, पेरोल और फर्लो पर 2 से 3 माह के लिए छोड़ा जा चुका है। विश्व में फैली कोरोना महामारी के चलते कैदियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए अदालत और तिहाड़ प्रशासन ने मानवाधिकारों को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाया है। जेल सूत्रों के अनुसार कोरोना संक्रमण को देखते हुए जेल में मौजूद 20 प्रतिशत कैदियों को छोड़ा गया है। जिन कैदियों को छोड़ा गया है, उनमें 70 प्रतिशत दिल्ली के और 20 प्रतिशत दिल्ली के बाहर के रहने वाले हैं।


 तिहाड़, रोहिणी और मंडोली जेल में वर्तमान में करीब 13 हजार 500 कैदी हैं। इनमें 20 प्रतिशत सजायाफ्ता हैं और 80 प्रतिशत विचाराधीन कैदी हैं। कोरोना के महामारी घोषित होने पर विदेशों की जेल में कैदियों को छोड़ने के निर्णय को देखते हुए तिहाड़ जेल प्रशासन ने भी यह निर्णय लिया गया था। तिहाड़ में कैदियों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए बैरकों से कैदियों की संख्या कम करने के लिए विचाराधीन कैदियों को अतंरिम जमानत, पेरोल और फर्लो पर छोड़ना शुरू किया गया। जेल परिसर में जजों ने उनके मामलों पर निर्णय लेने शुरू कर रखे हैं, जो अभी भी जारी हैं।

Previous Post Next Post

.