वायुसेना के विशेष विमान से 225 लोगों को लेह भेजा

जैसलमेर के बाद बुधवार को जोधपुर के सेना वेलनेस सेंटर पर भर्ती सवा दो सौ भारतीयों को लेह क्षेत्र के लिए रवाना किया गया। सेना के विशेष विमान से इन लोगों को भेजा गया है। इरान से लाए गए भारतीयों को जैसलमेर और जोधपुर में सेना के वेलनेस सेंटर पर रखा गया था।
इससे पहले मंगलवार को जैसलमेर से 180 लोगों को श्रीनगर भेजा गया था। सैन्य सूत्रों के अनुसार इरान से एयर लिफ्ट कर जोधपुर लाए गए 552 भारतीय नागरिकों में से 225 जनों को बुधवार की सुबह इंडियन एयरफोर्स के ग्लोब मास्टर विमान में बैठाकर लेह रवाना किया गया। इरान से लाए गए 1036 भारतीय नागरिक जैसलमेर व जोधपुर में सेना के वेलनेस सेंटर में रह रहे थे। 


उल्‍लेखनीय है कि इरान में रहने वाले 54 छात्रों को 15 मार्च को जैसलमेर लाया गया था। इन्हें इरान से लाए गए अन्‍य भारतीयों के साथ सेना के वेलनेस सेंटर में रखा जा रहा है। इनमें से कुछ लोग कोरोना संक्रमित पाए गए। 28 मार्च को इन सभी छात्रों के कोरोना जांच के सैंपल लिए गए थे। इसमें ये सभी निगेटिव पाए गए। तब से ये छात्र वापस अपने घर कश्मीर जाने की तैयारी में लगे थे, लेकिन देशभर में जारी लॉकडाउन की वजह से इन्हें वापस भेजना संभव नहीं हो पाया। बाद में यह मामला प्रधानमंत्री कार्यालय के ध्यान में आया तो इन छात्रों को कश्मीर भेजने की पहल हुई। इसके बाद मंगलवार दोपहर पश्चात एयर फोर्स के विशेष विमान से 54 छात्रों सहित 180 लोगों को श्रीनगर के लिए रवाना किया गया। आज बुधवार की सुबह जोधपुर में सेना के वेलनेस सेंटर रखे गए 225 लोगों को लेह लद्दाख के लिए वायुसेना के विशेष विमान से भेजा गया। अब तक प्रशासनिक स्तर पर 405 लोगों को जम्मू कश्मीर, श्रीनगर एवं लेह लद्दाख भेजा जा चुका है।
Previous Post Next Post

.