केवल 22 वर्ष की उम्र में ही करोड़ों का मालिक बन गया था यह 8वीं फेल लड़का, जानियें कैसे..!

त्रिशनीत अरोरा : जीवन में हर कोई पैसा कमाना चाहता है, लेकिन हर कोई अपने इस सपने को पूरा नहीं कर पाता है। लेकिन इस लड़के ने अपने इस सपने को बहुत कम उम्र में ही पूरा कर दिखाया है। लुधियाना के रहने वाले त्रिशनीत अरोड़ा ऐसे लड़के हैं। 
जिन्होंने बिना कंप्यूटर की पढ़ाई किये ही एथिकल हैकिंग के मामले में अपना नाम फ़ोर्ब्स लिस्ट की एशिया 30 अंडर 30 में अपना नाम दर्ज करवा लिया है। आपको बता द किें त्रिशनीत अरोरा ने 21 वर्ष की उम्र में ही अपनी कम्पनी खोल ली थी। इसी कारण से उन्हें यंग CEO कहा जाता है।

आज करोड़ों में कमा रही है त्रिशनीत अरोरा की कम्पनी
आपको जानकर परेसानी होगी कि त्रिशनीत अरोरा 8वीं फेल हैं। जब वह 8वीं कक्षा में फेल हुए थे। तो उनके माता-पिता ने फेल होने का कारण पूछा था, तो इन्होने बताया था कि ये पढ़ना नहीं चाहते हैं। माता-पिता की इजाजत के बाद इन्होने पढ़ाई छोड़कर अपनी खुद की टीएसी सिक्युरिटी नाम की साइबर सिक्युरिटी कम्पनी खोल ली जो आज करोड़ों में कमा रही है। त्रिशनीत के अनुसार उन्होंने अपने शौक को बिज़नेस का रूप दिया। इसी कारण से आज वो इस मुकाम पर हैं।

पढ़ाई छोड़कर सारा दिन सीखते थे हैंकिंग
आज त्रिशनीत 24 वर्ष के हो चुके हैं। त्रिशनीत का जन्म लुधियाना के एक मिडिल क्लास परिवार में हुआ था। बचपन से ही इनका मन पढ़ाई में कम और कंप्यूटर में ज्यादा लगता था। त्रिशनीत सारा दिन कंप्यूटर में हैकिंग का काम सीखते थे। इस कारण से वो पढ़ाई नहीं कर पाते थे और 8वीं कक्षा में फेल हो गए थे। 8वीं में फेल होने के बाद इन्होने पढ़ाई छोड़ दी थी। लेकिन बाद में चलकर इन्होने 12वीं का एग्जाम दिया था। ये एक एथिकल हैकर हैं। जिसमें नेटवर्क या सिस्टम इंफ्रास्ट्रक्चर की सेक्युरिटी इवैल्युएट की जाती है।

पापा ने यह कहते हुए दिए थे 75 हजार की ये तो डूबने ही हैं
आपको बता दे किे इसकी निगरानी का काम सर्टिफाइड हैकर करते हैं। जिससे किसी भी नेटवर्क या सिस्टम के इंफ्रास्ट्रक्चर की सेक्युरिटी गुप्त रहे। फेल होने के बाद त्रिशनीत ने अपने पापा से पैसे मांगे थे। जिस पर उनके पापा ने उन्हें 75 हजार रूपये यह कहते हुए दिए थे कि ये पैसे तो डूबने की हैं। आज वे पूरी विश्व में काम कर रहे हैं। त्रिशनीत अपने काम करने के तरीके और बिज़नेस दिमाग की वजह से आज इस स्थान पर हैं। फेल होने के बाद इन्होने कंप्यूटर हैकिंग के बारे में लगातार नई-नई जानकारी इकट्ठी करने में लग गए थे।

रिलायंस जैसी बड़ी कम्पनी को भी दे रहे हैं अपनी सेवाएं
शुरुआत में जब इन लोगों को अपने सपने के बारे में बताते थे तो लोग सुनकर हंसने लगते थे। मीडिया को भी इनकी बातों पर विश्वाश नहीं था। लेकिन इन्होने अपने काम के जरिये लोगों को यह बताया कि किस तरह से अलग-अलग कम्पनियों का डाटा चुराया जा रहा है। 

धीरे-धीरे इनके काम की लोग सराहना करने लगे और कई कम्पनियों ने इन्हें काम देना प्रारम्भ कर दिया। इस वक्त त्रिशनीत रिलायंस, सीबीआई, पंजाब पुलिस, गुजरात पुलिस, अमूल और एवन साइकिल जैसी कम्पनियों को अपनी साइबर सेक्युरिटी की सेवाएं दे रहे हैं। केवल यही नहीं इतनी कम उम्र में ही त्रिशनीत ने ‘द हैकिंग एरा’ और ‘हैकिंग विथ स्मार्टफ़ोन्स’ जैसी किताबें भी लिख चुके हैं।
Previous Post Next Post

.