इन 12 पापों को करने से नाराज़ हो जाते हैं भगवान शिव

भगवान शिव के बारे में कहा जाता हैं कि वो भोले नाथ हैं. भक्तों से बड़ी जल्दी प्रसन्न होते हैं. लेकिन भोलेनाथ जीतनी जल्दी प्रसन्न होते हैं उनका गुस्सा भी उतना ही प्रलयंकारी हैं. ऐसा कहा जाता हैं कि जिस दिन शिव ने अपनी तीसरी आँख खोल दी उस दिन दुनियां का अंत निश्चित हैं. शिव पुराण में कई ऐसे काम, बातें, व्यवहार और सोच के बारे में बताया गया हैं जिन्हें पाप कर्म माना जाता हैं. यदि कोई भी मनुष्य ये 12 पाप कर्म करता हैं तो भगवान शिव उसे कभी क्षमा नहीं करते हैं. तो चलिए जानते हैं ऐसे 12 पाप जो आपको करने से बचना चाहिए…
1. दूसरों के पति या पत्नी पर नज़र डालने वाला या फिर उसे प्राप्त करने की इच्छा करना भी पाप की श्रेणी में आता हैं.
2. दूसरों का धन पाना या फिर उसे धोखे से अपना बनाने की चाह रखना भी भगवान शिव की नज़र में अपराध और पाप हैं.
3. किसी भोले भाले इंसान को कष्ट देना और उसके रास्ते में बाधाएं उत्पन्न करने की कोशिश करने वालों के प्रति भी शिव बाबा नाराज़ हो जाते हैं.
4. अच्छी बातें छोड़ कर बुरी राह को खुद चुनना और गलत रास्ते पर जाना भी भगवान शिव की नज़र में पाप हैं.
5. शिवपुराण में कही गई बात के अनुसार जो लोग किसी का बुरा नहीं करते लेकिन उनके प्रति बुरी सोच रखते हैं ऐसे लोगो को भी भगवान शिव पाप का भागीदार मानते हैं.
6. किसी गर्भवती महिला या मासिक धर्म के दौरान किसी महिला को कटु वचन कहना या फिर ऐसी कोई बात कहना जिस से उसका दिल दुखे भी भगवान शिव की नज़र में अक्षम्य पाप होता हैं.
7. किसी के सम्मान को हानि पंहुचाने की नियत से झूठ बोलना क्षल की श्रेणी में आता हैं जो कि शिव की नज़र में अपराध हैं.
8. समाज में किसी को हानि पंहुचाने की नियत से उसकी पीठ पीछे चुगली करना या फिर उसके बारे में गलत अफवाह फैलाना भी पाप माना गया हैं.
9. धर्म के अनुसार मना की गई चीजों को खाना या फिर धर्म के विपरीत जाकर कोई कार्य करना भगवान शिव की नज़र में अपराध होता हैं.
10. बच्चों, महिलाओं, बूढ़ों या फिर किसी भी कमजोर व्यक्ति के प्रति हिंसा का व्यवाह करना भगवान शिव की नज़र में सबसे बड़ा पाप हैं.
11. गलत तरीके से किसी की संपत्ति हड़पना, ब्राह्मण या मंदिर की चीजें चुराना पाप की श्रेणी में आता हैं.
12. गुरु, माता, पिता, पत्नी या फिर पूर्वजों का मान सम्मान ना करना और उन्हें ठेस पहुँचाना भगवान शिव की नगर में क्षमा ना किया जा सकने वाला पाप होता हैं.
Previous Post Next Post

.