पत्‍‌नी ही निकली असली किलर, प्रेमी संग मिलकर करवाई थी अपने पति के साथ ये काम...

पिठोरिया निवासी राशन डीलर कार्तिक केशरी हत्याकांड में तीन को हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए युवकों में खूंटी के लोधमा निवासी उज्जवल केशरी के अलावा दो अन्य युवक शामिल हैं। हालांकि मामले का मुख्य आरोपित अंकित केशरी अब भी फरार चल रहा है। उसकी तलाश में छापेमारी की जा रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार इस हत्याकांड की मुख्य साजिशकर्ता उसकी पत्‍‌नी प्रीति केशरी ही निकली। पत्‍‌नी का उसके मायके लोधमा इलाके में रहने वाले युवक अंकित केशरी के साथ प्रेम-प्रसंग था। यह संबंध शादी के पहले से थी। जबकि शादी के करीब 13 साल बीत चुके थे, उनकी दो बेटी भी है।
 जानकारी के अनुसार एक शादी समारोह में कार्तिक ने अंकित के साथ एक प्लेट में खाना खाते देख लिया था। उस समय फटकार लगाई थी। इसके बाद से प्रेमी और पत्‍‌नी ने हत्या की साजिश रच डाली थी। इसबीच पूरी प्लानिंग के साथ बीते 28 सितंबर की रात शॉपिंग से लौटने के दौरान बाढ़ू चौक से कुछ दूर पहले कार रोककर कार्तिक पर हमला किया गया। उनके सिर पर रॉड से मारा गया। इससे कार्तिक गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। घटना के बाद पत्‍‌नी ने पहले भांजा को फोन कर बुलाया था, फिर अन्य परिजनों को सूचना दी थी। हालांकि अस्पताल ले जाने के क्रम में ही कार्तिक की मौत हो गई थी। घटना के दूसरे दिन पिठोरिया चौक जाम कर लोगों ने प्रदर्शन भी किया था। 

पिठोरिया महावीर मंडल अध्यक्ष कृष्णा नायक ने कहा है कि मामले में पुलिस के स्तर से कोई कोताही न हो, घर वाले भी दबाने की कोशिश न करें। अन्यथा महावीर मंडल खुद सामने आकर मामले में न्याय के लिए लड़ेगा। बताया जा रहा है कि घटना के दिन कार्तिक केशरी की पत्‍‌नी ने ही कार रुकवाई थी। रोकने के बाद चार से पांच अपराधियों ने मिलकर कार्तिक को रॉड से मार डाला था। सड़क किनारे ही कार्तिक के सिर की खोपड़ी खुल गई थी। कई हिस्सा बाहर आ गया था। घटना के बाद मौके पर पिठोरिया थानेदार विनोद राम, कांके थानेदार विनय कुमार सिंह सहित अन्य पहुंचे थे।
घटना के बाद पत्‍‌नी ने जांच भरमाने की कोशिश भी की थी। पत्‍‌नी ने कहा था कि चार से पांच अपराधियों ने मिलकर लाठी डंडे व रॉड से मारकर जख्मी कर दिया। इसके बाद दो बाइक से पिठोरिया चौक की ओर भाग निकले थे। पुलिस ने उस रूट का सीसीटीवी खंगाला। कई पहलुओं पर जांच की। लेकिन घटनास्थल देखकर ही पुलिस को शक हो गया था कि इसमें पत्‍‌नी की मिलीभगत हो सकती है। बताया जा रहा है कि घटना वाले दिन पत्‍‌नी ही कार ड्राइव कर रही थी। जबकि पत्‍‌नी ने बयान दिया था कि कार्तिक लघुशंका के लिए घटनास्थल पर रुके थे।
Previous Post Next Post

.