गांव के इकलौते मुस्लिम परिवार की याह्या खान की बेटी 25 साल की रफिया खान की शादी विशाखापत्तनम के रहने वाले परवेज खान के बेटे जुबैर खान से तय हुई। ग्रामीणों ने याह्या खान को बताया कि उनके परिवार के पीढ़ियों के साथ पारस्परिक संबंध हैं, इसलिए वे पहले दूल्हे का स्वागत करना चाहते हैं। योजना के अनुसार, राम कृष्ण पटेल के परिवार ने पहले गाँव में दूल्हे का स्वागत किया। जब बारात गाँव की गलियों में पहुँचा, तो पुरुष और महिलाएँ फूलों की वर्षा करने लगे और पटाखों से आतिशबाजी कर उनका स्वागत किया जा रहा था।
पटेल ने कहा कि खान परिवार के साथ हमारे बहुत अच्छे संबंध हैं, और वे परिवार के सदस्य जैसे है। उनकी बेटी हमारी बेटी की तरह है, इसलिए हमने पहले दूल्हे और उसके परिवार का स्वागत किया। याह्या खान ने कहा कि मेरा परिवार एकमात्र मुस्लिम परिवार है जो पीढ़ियों से यहां रह रहा है। पूरे गांव ने मेरी बेटी की शादी में बारात का स्वागत किया। मेरा परिवार ग्रामीणों के सम्मान और प्यार से अभिभूत है। दूल्हे जुबेर ने कहा, मैं ग्रामीणों, विशेष रूप से यहां के हिंदू और मुसलमानों के बीच प्यार को देखकर बहुत खुश हूं। बड़े शहरों में ऐसी चीजें नहीं देखी जाती हैं। उनकी कोमलता के लिए मैं यहां के लोगों का बहुत आभारी हूं। यह अद्भुत था।